Preferred language:

This is the default search language used by BabelNet
Select the main languages you wish to use in BabelNet:
Selected languages will be available in the dropdown menus and in BabelNet entries
Select all

A

B

C

D

E

F

G

H

I

J

K

L

M

N

O

P

Q

R

S

T

U

V

W

X

Y

Z

all preferred languages
    •         •     bn:00037240n     •     NOUN     •     Named Entity    •     Updated on 2021/04/14     •     Categories: هندوس هنود, فلاسفة هنود في القرن 19, قادة دول مغتالون, ناشطون في مكافحة الفقر...

  مهاتما غاندي · غاندي · مهندس كرمشاند غاندي · المهاتما غاندي · Ghandi

موهانداس كرمشاند غاندي ‏؛ هو السياسي البارز والزعيم الروحي للهند خلال حركة استقلال الهند. Wikipedia

More definitions


الزعيم السياسي والديني الهندي Wikidata

ETHNIC GROUP
FAMILY NAME
FIELD OF WORK
HONORIFIC PREFIX
LIFESTYLE
MANNER OF DEATH
MOVEMENT
PERMANENT DUPLICATED ITEM
PLACE OF BIRTH
PLACE OF BURIAL
PLACE OF DEATH
PRESENT IN WORK
SEX OR GENDER
    •         •     bn:00037240n     •     NOUN     •     Named Entity    •     Updated on 2021/04/14     •     Categories: 托尔斯泰主义者, 时代年度风云人物, 左撇子, 遇刺身亡的政治人物...

  圣雄甘地 · 莫罕达斯·卡拉姆昌德·甘地 · Gandhi · Mahatma Gandhi · Mohandas Karamchand Gandhi

莫罕达斯・卡拉姆昌德・甘地(古吉拉特语:મોહનદાસ કરમચંદ ગાંધી;印地语:मोहनदास करमचंद गांधी;英语:Mohandas Karamchand Gandhi,台语旧译颜智(台湾话:gan5-ti3),1869年10月2日-1948年1月30日),尊称圣雄甘地(印地语:महात्मा गांधी,拉丁字母转写 Mahātmā Gāndhī),印度国父,印度民族主义运动和国大党领袖,他带领印度独立,脱离英国殖民地统治。 Wikipedia

CAUSE OF DEATH
CONFLICT
ETHNIC GROUP
FAMILY NAME
FIELD OF WORK
HONORIFIC PREFIX
LANGUAGES SPOKEN, WRITTEN OR SIGNED
LIFESTYLE
MANNER OF DEATH
MEMBER OF POLITICAL PARTY
MOVEMENT
NATIVE LANGUAGE
NOMINATED FOR
NOTABLE WORK
PERMANENT DUPLICATED ITEM
PLACE OF BIRTH
PLACE OF BURIAL
PLACE OF DEATH
PRESENT IN WORK
RELIGION
SEX OR GENDER
WRITING LANGUAGE
    •         •     bn:00037240n     •     NOUN     •     Named Entity    •     Updated on 2021/04/14     •     Categories: People of British India, Biography with signature, Presidents of the Indian National Congress, Prisoners and detainees of British India...

  Mahatma Gandhi · Gandhi   · Mohandas Karamchand Gandhi · Bapu · Bapu Gandhi

Political and spiritual leader during India's struggle with Great Britain for home rule; an advocate of passive resistance (1869-1948) WordNet

More definitions


Political and spiritual leader during India's struggle with Great Britain for home rule; an advocate of passive resistance (1869-1948) WordNet 2020
Mohandas Karamchand Gandhi was an Indian lawyer, anti-colonial nationalist, and political ethicist, who employed nonviolent resistance to lead the successful campaign for India's independence from British rule, and in turn inspired movements for civil rights and freedom across the world. Wikipedia
The preeminent leader of Indian nationalism in British-ruled India Wikipedia (disambiguation)
Pre-eminent leader of Indian nationalism during the British Raj Wikidata
The preeminent leader of Indian nationalism in British-ruled India. OmegaWiki

CAUSE OF DEATH
CONFLICT
ETHNIC GROUP
FAMILY NAME
FIELD OF WORK
HONORIFIC PREFIX
LANGUAGES SPOKEN, WRITTEN OR SIGNED
LIFESTYLE
MANNER OF DEATH
MEMBER OF POLITICAL PARTY
NATIVE LANGUAGE
NOMINATED FOR
NOTABLE WORK
PERMANENT DUPLICATED ITEM
PLACE OF BIRTH
PLACE OF BURIAL
PLACE OF DEATH
PRESENT IN WORK
RELIGION
SEX OR GENDER
WRITING LANGUAGE
    •         •     bn:00037240n     •     NOUN     •     Named Entity    •     Updated on 2021/04/14     •     Categories: Décès à 78 ans, Décès à Delhi, Spiritualité hindouiste, Militant pacifiste indien...

  Mohandas Karamchand Gandhi · Mahatma Gandhi · Gandhi · Gandhî · Karamchand

Mohandas Karamchand Gandhi, né à Porbandar le 2 octobre 1869 et mort assassiné à Delhi le 30 janvier 1948, est un dirigeant politique, important guide spirituel de l'Inde et du mouvement pour l'indépendance de ce pays. Wikipedia

More definitions


CAUSE OF DEATH
DESCRIBED BY SOURCE
ETHNIC GROUP
FAMILY NAME
FIELD OF WORK
HONORIFIC PREFIX
LANGUAGES SPOKEN, WRITTEN OR SIGNED
LIFESTYLE
MANNER OF DEATH
MEMBER OF POLITICAL PARTY
NATIVE LANGUAGE
NOTABLE WORK
PERMANENT DUPLICATED ITEM
PLACE OF BIRTH
PLACE OF BURIAL
PLACE OF DEATH
PRESENT IN WORK
RELIGION
SEX OR GENDER
WRITING LANGUAGE
    •         •     bn:00037240n     •     NOUN     •     Named Entity    •     Updated on 2021/04/14     •     Categories: Inder, Autobiografie, Literatur (20. Jahrhundert), Person der Friedensbewegung...

  Mohandas Karamchand Gandhi · Mahatma Gandhi · Gandhi · Karamchand Gandhi · Mahatma

Mohandas Karamchand Gandhi war ein indischer Rechtsanwalt, Publizist, Morallehrer, Asket und Pazifist, der zum geistigen und politischen Anführer der indischen Unabhängigkeitsbewegung wurde. Wikipedia

CAUSE OF DEATH
CONFLICT
DESCRIBED BY SOURCE
ETHNIC GROUP
FAMILY NAME
FIELD OF WORK
HONORIFIC PREFIX
LANGUAGES SPOKEN, WRITTEN OR SIGNED
LIFESTYLE
MANNER OF DEATH
MEMBER OF POLITICAL PARTY
NATIVE LANGUAGE
NOMINATED FOR
NOTABLE WORK
ON FOCUS LIST OF WIKIMEDIA PROJECT
PERMANENT DUPLICATED ITEM
PLACE OF BIRTH
PLACE OF BURIAL
PLACE OF DEATH
PRESENT IN WORK
RELIGION
SEX OR GENDER
WRITING LANGUAGE
    •         •     bn:00037240n     •     NOUN     •     Named Entity    •     Updated on 2021/04/14     •     Categories: Ινδοί επαναστάτες, Ινδοί φιλόσοφοι, Ινδοί πολιτικοί, Πρόσωπο της Χρονιάς (περιοδικό Τάιμ)...

  Μαχάτμα Γκάντι · Μοχάντας Γκάντι

Ο Μοχάντας Καραμτσάντ Γκάντι ήταν Ινδός πολιτικός, στοχαστής και επαναστάτης ακτιβιστής. Wikipedia

More definitions


Ινδός πολιτικός και θρησκευτικός ηγέτης Wikidata

CONFLICT
FAMILY NAME
FIELD OF WORK
HONORIFIC PREFIX
LANGUAGES SPOKEN, WRITTEN OR SIGNED
NATIVE LANGUAGE
PERMANENT DUPLICATED ITEM
PLACE OF BIRTH
PLACE OF BURIAL
PRESENT IN WORK
SEX OR GENDER
WRITING LANGUAGE
    •         •     bn:00037240n     •     NOUN     •     Named Entity    •     Updated on 2021/04/14     •     Categories: אישים במלחמות הבורים, מוהנדס קרמצ'נד גנדי, שובתי רעב, תנועת העצמאות ההודית...

  מוהנדס קרמצ'נד גנדי · מהאטמה גנדי · מהטמה גנדי · גאנדי, מ.ק · מאהטמה גנדהי

מהאטמה גנדי או בשמו המלא מוֹהַנְדַּס קרמצ'נד גַּנְדי היה מנהיג פוליטי ורוחני הודי, שהוביל את תנועת העצמאות ההודית במאבקה נגד שלטון האימפריה הבריטית. Wikipedia

More definitions


מנהיג פוליטי ורוחני הודי Wikidata

ETHNIC GROUP
FAMILY NAME
FIELD OF WORK
HONORIFIC PREFIX
LANGUAGES SPOKEN, WRITTEN OR SIGNED
MANNER OF DEATH
NATIVE LANGUAGE
NOTABLE WORK
PERMANENT DUPLICATED ITEM
PLACE OF BIRTH
PLACE OF BURIAL
PLACE OF DEATH
PRESENT IN WORK
SEX OR GENDER
WRITING LANGUAGE
    •         •     bn:00037240n     •     NOUN     •     Named Entity    •     Updated on 2021/04/14     •     Categories: १९४८ में निधन, लेख जिनमें जून 2020 से मृत कड़ियाँ हैं, भारत के नेता, भारत के अर्थशास्त्री...

  महात्मा गांधी · मोहनदास करमचंद गांधी · Mahatma Gandhi · गाँधीजी · गांधी

मोहनदास करमचन्द गांधी जिन्हें महात्मा गांधी के नाम से भी जाना जाता है, भारत एवं भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के एक प्रमुख राजनैतिक एवं आध्यात्मिक नेता थे। वे सत्याग्रह के माध्यम से अत्याचार के प्रतिकार के अग्रणी नेता थे, उनकी इस अवधारणा की नींव सम्पूर्ण अहिंसा के सिद्धान्त पर रखी गयी थी जिसने भारत को आजादी दिलाकर पूरी दुनिया में जनता के नागरिक अधिकारों एवं स्वतन्त्रता के प्रति आन्दोलन के लिये प्रेरित किया। उन्हें दुनिया में आम जनता महात्मा गांधी के नाम से जानती है। संस्कृत भाषा में महात्मा अथवा महान आत्मा एक सम्मान सूचक शब्द है। गांधी को महात्मा के नाम से सबसे पहले १९१५ में राजवैद्य जीवराम कालिदास ने संबोधित किया था। एक अन्य मत के अनुसार स्वामी श्रद्धानन्द ने 1915 मे महात्मा की उपाधि दी थी, तीसरा मत ये है कि गुरु रविंद्रनाथ टैगोर ने महात्मा की उपाधि प्रदान की थी 12अप्रैल 1919 को अपने एक लेख मे | । उन्हें बापू के नाम से भी याद किया जाता है। एक मत के अनुसार गांधीजी को बापू सम्बोधित करने वाले प्रथम व्यक्ति उनके साबरमती आश्रम के शिष्य थे सुभाष चन्द्र बोस ने ६ जुलाई १९४४ को रंगून रेडियो से गांधी जी के नाम जारी प्रसारण में उन्हें राष्ट्रपिता कहकर सम्बोधित करते हुए आज़ाद हिन्द फौज़ के सैनिकों के लिये उनका आशीर्वाद और शुभकामनाएँ माँगीं थीं। प्रति वर्ष २ अक्टूबर को उनका जन्म दिन भारत में गांधी जयंती के रूप में और पूरे विश्व में अन्तर्राष्ट्रीय अहिंसा दिवस के नाम से मनाया जाता है। सबसे पहले गान्धी जी ने प्रवासी वकील के रूप में दक्षिण अफ्रीका में भारतीय समुदाय के लोगों के नागरिक अधिकारों के लिये संघर्ष हेतु सत्याग्रह करना शुरू किया। १९१५ में उनकी भारत वापसी हुई। उसके बाद उन्होंने यहाँ के किसानों, मजदूरों और शहरी श्रमिकों को अत्यधिक भूमि कर और भेदभाव के विरुद्ध आवाज उठाने के लिये एकजुट किया। १९२१ में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की बागडोर संभालने के बाद उन्होंने देशभर में गरीबी से राहत दिलाने, महिलाओं के अधिकारों का विस्तार, धार्मिक एवं जातीय एकता का निर्माण व आत्मनिर्भरता के लिये अस्पृश्‍यता के विरोध में अनेकों कार्यक्रम चलाये। इन सबमें विदेशी राज से मुक्ति दिलाने वाला स्वराज की प्राप्ति वाला कार्यक्रम ही प्रमुख था। गाँधी जी ने ब्रिटिश सरकार द्वारा भारतीयों पर लगाये गये नमक कर के विरोध में १९३० में नमक सत्याग्रह और इसके बाद १९४२ में अंग्रेजो भारत छोड़ो आन्दोलन से खासी प्रसिद्धि प्राप्त की। दक्षिण अफ्रीका और भारत में विभिन्न अवसरों पर कई वर्षों तक उन्हें जेल में भी रहना पड़ा। गांधी जी ने सभी परिस्थितियों में अहिंसा और सत्य का पालन किया और सभी को इनका पालन करने के लिये वकालत भी की। उन्होंने साबरमती आश्रम में अपना जीवन गुजारा और परम्परागत भारतीय पोशाक धोती व सूत से बनी शाल पहनी जिसे वे स्वयं चरखे पर सूत कातकर हाथ से बनाते थे। उन्होंने सादा शाकाहारी भोजन खाया और आत्मशुद्धि के लिये लम्बे-लम्बे उपवास रखे। == प्रारम्भिक जीवन == मोहनदास करमचन्द गान्धी का जन्म पश्चिमी भारत में वर्तमान गुजरात के एक तटीय शहर पोरबंदर नामक स्थान पर २ अक्टूबर सन् १८६९ को हुआ था। उनके पिता करमचन्द गान्धी सनातन धर्म की पंसारी जाति से सम्बन्ध रखते थे और ब्रिटिश राज के समय काठियावाड़ की एक छोटी सी रियासत के दीवान अर्थात् प्रधान मन्त्री थे। गुजराती भाषा में गान्धी का अर्थ है पंसारी जबकि हिन्दी भाषा में गन्धी का अर्थ है इत्र फुलेल बेचने वाला जिसे अंग्रेजी में परफ्यूमर कहा जाता है। उनकी माता पुतलीबाई परनामी वैश्य समुदाय की थीं। पुतलीबाई करमचन्द की चौथी पत्नी थी। उनकी पहली तीन पत्नियाँ प्रसव के समय मर गयीं थीं। भक्ति करने वाली माता की देखरेख और उस क्षेत्र की जैन परम्पराओं के कारण युवा मोहनदास पर वे प्रभाव प्रारम्भ में ही पड़ गये थे जिसने आगे चलकर महात्मा गांधी के जीवन में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी। इन प्रभावों में शामिल थे दुर्बलों में जोश की भावना, शाकाहारी जीवन, आत्मशुद्धि के लिये उपवास तथा विभिन्न जातियों के लोगों के बीच सहिष्णुता। === कम आयु में विवाह === मई १८८३ में साढे १३ साल की आयु पूर्ण करते ही उनका विवाह १४ साल की कस्तूर बाई मकनजी से कर दिया गया। पत्नी का पहला नाम छोटा करके कस्तूरबा कर दिया गया और उसे लोग प्यार से बा कहते थे। यह विवाह उनके माता पिता द्वारा तय किया गया व्यवस्थित बाल विवाह था जो उस समय उस क्षेत्र में प्रचलित था। लेकिन उस क्षेत्र में यही रीति थी कि किशोर दुल्हन को अपने माता पिता के घर और अपने पति से अलग अधिक समय तक रहना पड़ता था। १८८५ में जब गान्धी जी १५ वर्ष के थे तब इनकी पहली सन्तान ने जन्म लिया। लेकिन वह केवल कुछ दिन ही जीवित रही। और इसी साल उनके पिता करमचन्द गांधी भी चल बसे। मोहनदास और कस्तूरबा के चार सन्तान हुईं जो सभी पुत्र थे। हरीलाल गान्धी १८८८ में, मणिलाल गान्धी १८९२ में, रामदास गान्धी १८९७ में और देवदास गांधी १९०० में जन्मे। पोरबंदर से उन्होंने मिडिल और राजकोट से हाई स्कूल किया। दोनों परीक्षाओं में शैक्षणिक स्तर वह एक औसत छात्र रहे। मैट्रिक के बाद की परीक्षा उन्होंने भावनगर के शामलदास कॉलेज से कुछ परेशानी के साथ उत्तीर्ण की। जब तक वे वहाँ रहे अप्रसन्न ही रहे क्योंकि उनका परिवार उन्हें बैरिस्टर बनाना चाहता था। === विदेश में शिक्षा व विदेश में ही वकालत === अपने १९वें जन्मदिन से लगभग एक महीने पहले ही ४ सितम्बर १८८८ को गांधी यूनिवर्सिटी कॉलेज लन्दन में कानून की पढाई करने और बैरिस्टर बनने के लिये इंग्लैंड चले गये। भारत छोड़ते समय जैन भिक्षु बेचारजी के समक्ष हिन्दुओं को मांस, शराब तथा संकीर्ण विचारधारा को त्यागने के लिए अपनी अपनी माता जी को दिए गये एक वचन ने उनके शाही राजधानी लंदन में बिताये गये समय को काफी प्रभावित किया। हालांकि गांधी जी ने अंग्रेजी रीति रिवाजों का अनुभव भी किया जैसे उदाहरण के तौर पर नृत्य कक्षाओं में जाने आदि का। फिर भी वह अपनी मकान मालकिन द्वारा मांस एवं पत्ता गोभी को हजम.नहीं कर सके। उन्होंने कुछ शाकाहारी भोजनालयों की ओर इशारा किया। अपनी माता की इच्छाओं के बारे में जो कुछ उन्होंने पढा था उसे सीधे अपनाने की बजाय उन्होंने बौद्धिकता से शाकाहारी भोजन का अपना भोजन स्वीकार किया। उन्होंने शाकाहारी समाज की सदस्यता ग्रहण की और इसकी कार्यकारी समिति के लिये उनका चयन भी हो गया जहाँ उन्होंने एक स्थानीय अध्याय की नींव रखी। बाद में उन्होने संस्थाएँ गठित करने में महत्वपूर्ण अनुभव का परिचय देते हुए इसे श्रेय दिया। वे जिन शाकाहारी लोगों से मिले उनमें से कुछ थियोसोफिकल सोसायटी के सदस्य भी थे। इस सोसाइटी की स्थापना १८७५ में विश्व बन्धुत्व को प्रबल करने के लिये की गयी थी और इसे बौद्ध धर्म एवं सनातन धर्म के साहित्य के अध्ययन के लिये समर्पित किया गया था। उन्हों लोगों ने गांधी जी को श्रीमद्भगवद्गीता पढ़ने के लिये प्रेरित किया। हिन्दू, ईसाई, बौद्ध, इस्लाम और अन्य धर्मों .के बारे में पढ़ने से पहले गांधी ने धर्म में विशेष रुचि नहीं दिखायी। इंग्लैंड और वेल्स बार एसोसिएशन में वापस बुलावे पर वे भारत लौट आये किन्तु बम्बई में वकालत करने में उन्हें कोई खास सफलता नहीं मिली। बाद में एक हाई स्कूल शिक्षक के रूप में अंशकालिक नौकरी का प्रार्थना पत्र अस्वीकार कर दिये जाने पर उन्होंने जरूरतमन्दों के लिये मुकदमे की अर्जियाँ लिखने के लिये राजकोट को ही अपना स्थायी मुकाम बना लिया। परन्तु एक अंग्रेज अधिकारी की मूर्खता के कारण उन्हें यह कारोबार भी छोड़ना पड़ा। अपनी आत्मकथा में उन्होंने इस घटना का वर्णन अपने बड़े भाई की ओर से परोपकार की असफल कोशिश के रूप में किया है। यही वह कारण था जिस वजह से उन्होंने सन् १८९३ में एक भारतीय फर्म से नेटाल दक्षिण अफ्रीका में, जो उन दिनों ब्रिटिश साम्राज्य का भाग होता था, एक वर्ष के करार पर वकालत का कारोवार स्वीकार कर लिया। == दक्षिण अफ्रीका में नागरिक अधिकारों के आन्दोलन == दक्षिण अफ्रीका में गान्धी को भारतीयों पर भेदभाव का सामना करना पड़ा। आरम्भ में उन्हें प्रथम श्रेणी कोच की वैध टिकट होने के बाद तीसरी श्रेणी के डिब्बे में जाने से इन्कार करने के लिए ट्रेन से बाहर फेंक दिया गया था। इतना ही नहीं पायदान पर शेष यात्रा करते हुए एक यूरोपियन यात्री के अन्दर आने पर चालक की मार भी झेलनी पड़ी। उन्होंने अपनी इस यात्रा में अन्य भी कई कठिनाइयों का सामना किया। अफ्रीका में कई होटलों को उनके लिए वर्जित कर दिया गया। इसी तरह ही बहुत सी घटनाओं में से एक यह भी थी जिसमें अदालत के न्यायाधीश ने उन्हें अपनी पगड़ी उतारने का आदेश दिया था जिसे उन्होंने नहीं माना। ये सारी घटनाएँ गान्धी के जीवन में एक मोड़ बन गईं और विद्यमान सामाजिक अन्याय के प्रति जागरुकता का कारण बनीं तथा सामाजिक सक्रियता की व्याख्या करने में मददगार सिद्ध हुईं। दक्षिण अफ्रीका में भारतीयों पर हो रहे अन्याय को देखते हुए गान्धी ने अंग्रेजी साम्राज्य के अन्तर्गत अपने देशवासियों के सम्मान तथा देश में स्वयं अपनी स्थिति के लिए प्रश्न उठाये। == १९०६ के ज़ुलु युद्ध में भूमिका == १९०६ में, ज़ुलु दक्षिण अफ्रीका में नए चुनाव कर के लागू करने के बाद दो अंग्रेज अधिकारियों को मार डाला गया। बदले में अंग्रेजों ने जूलू के खिलाफ युद्ध छेड़ दिया। गांधी जी ने भारतीयों को भर्ती करने के लिए ब्रिटिश अधिकारियों को सक्रिय रूप से प्रेरित किया। उनका तर्क था अपनी नागरिकता के दावों को कानूनी जामा पहनाने के लिए भारतीयों को युद्ध प्रयासों में सहयोग देना चाहिए। तथापि, अंग्रेजों ने अपनी सेना में भारतीयों को पद देने से इंकार कर दिया था। इसके बावजूद उन्होने गांधी जी के इस प्रस्ताव को मान लिया कि भारतीय घायल अंग्रेज सैनिकों को उपचार के लिए स्टेचर पर लाने के लिए स्वैच्छा पूर्वक कार्य कर सकते हैं। इस कोर की बागडोर गांधी ने थामी।२१ जुलाई, १९०६ को गांधी जी ने भारतीय जनमत इंडियन ओपिनिय में लिखा कि २३ भारतीय निवासियों के विरूद्ध चलाए गए आप्रेशन के संबंध में प्रयोग द्वारा नेटाल सरकार के कहने पर एक कोर का गठन किया गया है।दक्षिण अफ्रीका में भारतीय लोगों से इंडियन ओपिनियन में अपने कॉलमों के माध्‍यम से इस युद्ध में शामिल होने के लिए आग्रह किया और कहा, यदि सरकार केवल यही महसूस करती हे कि आरक्षित बल बेकार हो रहे हैं तब वे इसका उपयोग करेंगे और असली लड़ाई के लिए भारतीयों का प्रशिक्षण देकर इसका अवसर देंगे।गांधी की राय में, १९०६ का मसौदा अध्यादेश भारतीयों की स्थिति में किसी निवासी के नीचे वाले स्तर के समान लाने जैसा था। इसलिए उन्होंने सत्याग्रह, की तर्ज पर "काफिर s " .का उदाहरण देते हुए भारतीयों से अध्यादेश का विरोध करने का आग्रह किया। उनके शब्दों में, " यहाँ तक कि आधी जातियां और काफिर जो हमसे कम आधुनिक हैं ने भी सरकार का विरोध किया है। पास का नियम उन पर भी लागू होता है किंतु वे पास नहीं दिखाते हैं। == भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के लिए संघर्ष == गांधी १९१५ में दक्षिण अफ्रीका से भारत में रहने के लिए लौट आए। उन्होंने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अधिवेशनों पर अपने विचार व्य‍क्त किए, लेकिन उनके विचार भारत के मुख्य मुद्दों, राजनीति तथा उस समय के कांग्रेस दल के प्रमुख भारतीय नेता गोपाल कृष्ण गोखले पर ही आधारित थे जो एक सम्मानित नेता थे। === चंपारण और खेड़ा === गांधी की पहली बड़ी उपलब्धि १९१८ में चम्पारन सत्याग्रह और खेड़ा सत्याग्रह में मिली हालांकि अपने निर्वाह के लिए जरूरी खाद्य फसलों की बजाए नील नकद पैसा देने वाली खाद्य फसलों की खेती वाले आंदोलन भी महत्वपूर्ण रहे। जमींदारों की ताकत से दमन हुए भारतीयों को नाममात्र भरपाई भत्ता दिया गया जिससे वे अत्यधिक गरीबी से घिर गए। गांवों को बुरी तरह गंदा और अस्वास्थ्यकर ; और शराब, अस्पृश्यता और पर्दा से बांध दिया गया। अब एक विनाशकारी अकाल के कारण शाही कोष की भरपाई के लिए अंग्रेजों ने दमनकारी कर लगा दिए जिनका बोझ दिन प्रतिदिन बढता ही गया। यह स्थिति निराशजनक थी। खेड़ा, गुजरात में भी यही समस्या थी। गांधी जी ने वहां एक आश्रम बनाया जहाँ उनके बहुत सारे समर्थकों और नए स्वेच्छिक कार्यकर्ताओं को संगठित किया गया। उन्होंने गांवों का एक विस्तृत अध्ययन और सर्वेक्षण किया जिसमें प्राणियों पर हुए अत्याचार के भयानक कांडों का लेखाजोखा रखा गया और इसमें लोगों की अनुत्पादकीय सामान्य अवस्था को भी शामिल किया गया था। ग्रामीणों में विश्‍वास पैदा करते हुए उन्होंने अपना कार्य गांवों की सफाई करने से आरंभ किया जिसके अंतर्गत स्कूल और अस्पताल बनाए गए और उपरोक्त वर्णित बहुत सी सामाजिक बुराईयों को समाप्त करने के लिए ग्रामीण नेतृत्व प्रेरित किया। लेकिन इसके प्रमुख प्रभाव उस समय देखने को मिले जब उन्हें अशांति फैलाने के लिए पुलिस ने गिरफ्तार किया और उन्हें प्रांत छोड़ने के लिए आदेश दिया गया। हजारों की तादाद में लोगों ने विरोध प्रदर्शन किए ओर जेल, पुलिस स्टेशन एवं अदालतों के बाहर रैलियां निकालकर गांधी जी को बिना शर्त रिहा करने की मांग की। गांधी जी ने जमींदारों के खिलाफ़ विरोध प्रदर्शन और हड़तालों को का नेतृत्व किया जिन्होंने अंग्रेजी सरकार के मार्गदर्शन में उस क्षेत्र के गरीब किसानों को अधिक क्षतिपूर्ति मंजूर करने तथा खेती पर नियंत्रण, राजस्व में बढोतरी को रद्द करना तथा इसे संग्रहित करने वाले एक समझौते पर हस्ताक्षर किए। इस संघर्ष के दौरान ही, गांधी जी को जनता ने बापू पिता और महात्मा के नाम से संबोधित किया। खेड़ा में सरदार पटेल ने अंग्रेजों के साथ विचार विमर्श के लिए किसानों का नेतृत्व किया जिसमें अंग्रेजों ने राजस्व संग्रहण से मुक्ति देकर सभी कैदियों को रिहा कर दिया गया था। इसके परिणामस्वरूप, गांधी की ख्याति देश भर में फैल गई। === असहयोग आन्दोलन === गांधी जी ने असहयोग, अहिंसा तथा शांतिपूर्ण प्रतिकार को अंग्रेजों के खिलाफ़ शस्त्र के रूप में उपयोग किया। पंजाब में अंग्रेजी फोजों द्वारा भारतीयों पर जलियावांला नरसंहार जिसे अमृतसर नरसंहार के नाम से भी जाना जाता है ने देश को भारी आघात पहुँचाया जिससे जनता में क्रोध और हिंसा की ज्वाला भड़क उठी। गांधीजी ने ब्रिटिश राज तथा भारतीयों द्वारा ‍प्रतिकारात्मक रवैया दोनों की की। उन्होंने ब्रिटिश नागरिकों तथा दंगों के शिकार लोगों के प्रति संवेदना व्यक्त की तथा पार्टी के आरम्भिक विरोध के बाद दंगों की भंर्त्सना की। गांधी जी के भावनात्मक भाषण के बाद अपने सिद्धांत की वकालत की कि सभी हिंसा और बुराई को न्यायोचित नहीं ठहराया जा सकता है। किंतु ऐसा इस नरसंहार और उसके बाद हुई हिंसा से गांधी जी ने अपना मन संपूर्ण सरकार आर भारतीय सरकार के कब्जे वाली संस्थाओं पर संपूर्ण नियंत्रण लाने पर केंद्रित था जो जल्‍दी ही स्वराज अथवा संपूर्ण व्यक्तिगत, आध्‍यात्मिक एवं राजनैतिक आजादी में बदलने वाला था। दिसम्बर १९२१ में गांधी जो भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस.का कार्यकारी अधिकारी नियुक्त किया गया। उनके नेतृत्व में कांग्रेस को स्वराज.के नाम वाले एक नए उद्देश्‍य के साथ संगठित किया गया। पार्दी में सदस्यता सांकेतिक शुल्क का भुगताने पर सभी के लिए खुली थी। पार्टी को किसी एक कुलीन संगठन की न बनाकर इसे राष्ट्रीय जनता की पार्टी बनाने के लिए इसके अंदर अनुशासन में सुधार लाने के लिए एक पदसोपान समिति गठित की गई। गांधी जी ने अपने अहिंसात्मक मंच को स्वदेशी नीति — में शामिल करने के लिए विस्तार किया जिसमें विदेशी वस्तुओं विशेषकर अंग्रेजी वस्तुओं का बहिष्कार करना था। इससे जुड़ने वाली उनकी वकालत का कहना था कि सभी भारतीय अंग्रेजों द्वारा बनाए वस्त्रों की अपेक्षा हमारे अपने लोगों द्वारा हाथ से बनाई गई खादी पहनें। गांधी जी ने स्वतंत्रता आंदोलन को सहयोग देने के लिएपुरूषों और महिलाओं को प्रतिदिन खादी के लिए सूत कातने में समय बिताने के लिए कहा। यह अनुशासन और समर्पण लाने की ऐसी नीति थी जिससे अनिच्छा और महत्वाकाक्षा को दूर किया जा सके और इनके स्थान पर उस समय महिलाओं को शामिल किया जाए जब ऐसे बहुत से विचार आने लगे कि इस प्रकार की गतिविधियां महिलाओं के लिए सम्मानजनक नहीं हैं। इसके अलावा गांधी जी ने ब्रिटेन की शैक्षिक संस्थाओं तथा अदालतों का बहिष्कार और सरकारी नौकरियों को छोड़ने का तथा सरकार से प्राप्त तमगों और सम्मान को वापस लौटाने का भी अनुरोध किया। असहयोग को दूर-दूर से अपील और सफलता मिली जिससे समाज के सभी वर्गों की जनता में जोश और भागीदारी बढ गई। फिर जैसे ही यह आंदोलन अपने शीर्ष पर पहुँचा वैसे फरवरी १९२२ में इसका अंत चौरी-चोरा, उत्तरप्रदेश में भयानक द्वेष के रूप में अंत हुआ। आंदोलन द्वारा हिंसा का रूख अपनाने के डर को ध्‍यान में रखते हुए और इस पर विचार करते हुए कि इससे उसके सभी कार्यों पर पानी फिर जाएगा, गांधी जी ने व्यापक असहयोग के इस आंदोलन को वापस ले लिया। गांधी पर गिरफ्तार किया गया १० मार्च, १९२२, को राजद्रोह के लिए गांधी जी पर मुकदमा चलाया गया जिसमें उन्हें छह साल कैद की सजा सुनाकर जैल भेद दिया गया। १८ मार्च, १९२२ से लेकर उन्होंने केवल २ साल ही जैल में बिताए थे कि उन्हें फरवरी १९२४ में आंतों के ऑपरेशन के लिए रिहा कर दिया गया। गांधी जी के एकता वाले व्यक्तित्व के बिना इंडियन नेशनल कांग्रेस उसके जेल में दो साल रहने के दौरान ही दो दलों में बंटने लगी जिसके एक दल का नेतृत्व सदन में पार्टी की भागीदारी के पक्ष वाले चित्त रंजन दास तथा मोतीलाल नेहरू ने किया तो दूसरे दल का नेतृत्व इसके विपरीत चलने वाले चक्रवर्ती राजगोपालाचार्य और सरदार वल्लभ भाई पटेल ने किया। इसके अलावा, हिंदुओं और मुसलमानों के बीच अहिंसा आंदोलन की चरम सीमा पर पहुँचकर सहयोग टूट रहा था। गांधी जी ने इस खाई को बहुत से साधनों से भरने का प्रयास किया जिसमें उन्होंने १९२४ की बसंत में सीमित सफलता दिलाने वाले तीन सप्ताह का उपवास करना भी शामिल था। === स्वराज और नमक सत्याग्रह === गांधी जी सक्रिय राजनीति से दूर ही रहे और १९२० की अधिकांश अवधि तक वे स्वराज पार्टी और इंडियन नेशनल कांग्रेस के बीच खाई को भरने में लगे रहे और इसके अतिरिक्त वे अस्पृश्यता, शराब, अज्ञानता और गरीबी के खिलाफ आंदोलन छेड़ते भी रहे। उन्होंने पहले १९२८ में लौटे .एक साल पहले अंग्रेजी सरकार ने सर जॉन साइमन के नेतृत्व में एक नया संवेधानिक सुधार आयोग बनाया जिसमें एक भी सदस्य भारतीय नहीं था। इसका परिणाम भारतीय राजनैतिक दलों द्वारा बहिष्कार निकला। दिसम्बर १९२८ में गांधी जी ने कलकत्ता में आयोजित कांग्रेस के एक अधिवेशन में एक प्रस्ताव रखा जिसमें भारतीय साम्राज्य को सत्ता प्रदान करने के लिए कहा गया था अथवा ऐसा न करने के बदले अपने उद्देश्य के रूप में संपूर्ण देश की आजादी के लिए असहयोग आंदोलन का सामना करने के लिए तैयार रहें। गांधी जी ने न केवल युवा वर्ग सुभाष चंद्र बोस तथा जवाहरलाल नेहरू जैसे पुरूषों द्वारा तत्काल आजादी की मांग के विचारों को फलीभूत किया बल्कि अपनी स्वयं की मांग को दो साल की बजाए एक साल के लिए रोक दिया। अंग्रेजों ने कोई जवाब नहीं दिया।.नहीं ३१ दिसम्बर १९२९, भारत का झंडा फहराया गया था लाहौर में है।२६ जनवरी १९३० का दिन लाहौर में भारतीय स्वतंत्रता दिवस के रूप में इंडियन नेशनल कांग्रेस ने मनाया। यह दिन लगभग प्रत्येक भारतीय संगठनों द्वारा भी मनाया गया। इसके बाद गांधी जी ने मार्च १९३० में नमक पर कर लगाए जाने के विरोध में नया सत्याग्रह चलाया जिसे १२ मार्च से ६ अप्रेल तक नमक आंदोलन के याद में ४०० किलोमीटर तक का सफर अहमदाबाद से दांडी, गुजरात तक चलाया गया ताकि स्वयं नमक उत्पन्न किया जा सके। समुद्र की ओर इस यात्रा में हजारों की संख्‍या में भारतीयों ने भाग लिया। भारत में अंग्रेजों की पकड़ को विचलित करने वाला यह एक सर्वाधिक सफल आंदोलन था जिसमें अंग्रेजों ने ८०,००० से अधिक लोगों को जेल भेजा। लार्ड एडवर्ड इरविन द्वारा प्रतिनिधित्व वाली सरकार ने गांधी जी के साथ विचार विमर्श करने का निर्णय लिया। यह इरविन गांधी की सन्धि मार्च १९३१ में हस्ताक्षर किए थे। सविनय अवज्ञा आंदोलन को बंद करने के लिए ब्रिटिश सरकार ने सभी राजनैतिक कैदियों को रिहा करने के लिए अपनी रजामन्दी दे दी। इस समझौते के परिणामस्वरूप गांधी को भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के एकमात्र प्रतिनिधि के रूप में लंदन में आयोजित होने वाले गोलमेज सम्मेलन में भाग लेने के लिए आमन्त्रित किया गया। यह सम्मेलन गांधी जी और राष्ट्रीयवादी लोगों के लिए घोर निराशाजनक रहा, इसका कारण सत्ता का हस्तांतरण करने की बजाय भारतीय कीमतों एवं भारतीय अल्पसंख्‍यकों पर केन्द्रित होना था। इसके अलावा, लार्ड इरविन के उत्तराधिकारी लार्ड विलिंगटन, ने राष्‍ट्रवादियों के आंदोलन को नियंत्रित एवं कुचलने का एक नया अभियान आरम्भ करदिया। गांधी फिर से गिरफ्तार कर लिए गए और सरकार ने उनके अनुयाईयों को उनसे पूर्णतया दूर रखते हुए गांधी जी द्वारा प्रभावित होने से रोकने की कोशिश की। लेकिन, यह युक्ति सफल नहीं थी। === दलित आंदोलन और निश्चय दिवस === १९३२ में, दलित नेता और प्रकांड विद्वान डॉ॰ बाबासाहेब अम्बेडकर के चुनाव प्रचार के माध्यम से, सरकार ने अछूतों को एक नए संविधान के अंतर्गत अलग निर्वाचन मंजूर कर दिया। इसके विरोध में दलित हतों के विरोधी गांधी जी ने सितंबर १९३२ में छ: दिन का अनशन ले लिया जिसने सरकार को सफलतापूर्वक दलित से राजनैतिक नेता बने पलवंकर बालू द्वारा की गई मध्‍यस्ता वाली एक समान व्यवस्था को अपनाने पर बल दिया। अछूतों के जीवन को सुधारने के लिए गांधी जी द्वारा चलाए गए इस अभियान की शुरूआत थी। गांधी जी ने इन अछूतों को हरिजन का नाम दिया जिन्हें वे भगवान की संतान मानते थे। ८ मई १९३३ को गांधी जी ने हरिजन आंदोलन में मदद करने के लिए आत्म शुद्धिकरण का २१ दिन तक चलने वाला उपवास किया। यह नया अभियान दलितों को पसंद नहीं आया तथापि वे एक प्रमुख नेता बने रहे। डॉ॰ अम्बेडकर ने गांधी जी द्वारा हरिजन शब्द का उपयोग करने की स्पष्ट निंदा की, कि दलित सामाजिक रूप से अपरिपक्व हैं और सुविधासंपन्न जाति वाले भारतीयों ने पितृसत्तात्मक भूमिका निभाई है। अम्बेडकर और उसके सहयोगी दलों को भी महसूस हुआ कि गांधी जी दलितों के राजनीतिक अधिकारों को कम आंक रहे हैं। हालांकि गांधी जी एक वैश्य जाति में पैदा हुए फिर भी उन्होनें इस बात पर जोर दिया कि वह डॉ॰ अम्बेडकर जैसे दलित मसिहा के होते हुए भी वह दलितों के लिए आवाज उठा सकता है। भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के दिनों में हिन्दुस्तान की सामाजिक बुराइयों में में छुआछूत एक प्रमुख बुराई थी जिसके के विरूद्ध महात्मा गांधी और उनके अनुयायी संघर्षरत रहते थे। उस समय देश के प्रमुख मंदिरों में हरिजनों का प्रवेश पूर्णतः प्रतिबंधित था। केरल राज्य का जनपद त्रिशुर दक्षिण भारत की एक प्रमुख धार्मिक नगरी है। यहीं एक प्रतिष्ठित मंदिर है गुरुवायुर मंदिर, जिसमें कृष्ण भगवान के बालरूप के दर्शन कराती भगवान गुरूवायुरप्पन की मूर्ति स्थापित है। आजादी से पूर्व अन्य मंदिरों की भांति इस मंदिर में भी हरिजनों के प्रवेश पर पूर्ण प्रतिबंध था। केरल के गांधी समर्थक श्री केलप्पन ने महात्मा की आज्ञा से इस प्रथा के विरूद्ध आवाज उठायी और अंततः इसके लिये सन् १९३३ ई0 में सविनय अवज्ञा प्रारम्भ की गयी। मन्दिर के ट्रस्टियों को इस बात की ताकीद की गयी कि नये वर्ष का प्रथम दिवस अर्थात १ जनवरी १९३४ को अंतिम निश्चय दिवस के रूप में मनाया जायेगा और इस तिथि पर उनके स्तर से कोई निश्चय न होने की स्थिति मे महात्मा गांधी तथा श्री केलप्पन द्वारा आन्दोलनकारियों के पक्ष में आमरण अनशन किया जा सकता है। इस कारण गुरूवायूर मन्दिर के ट्रस्टियो की ओर से बैठक बुलाकर मन्दिर के उपासको की राय भी प्राप्त की गयी। बैठक मे ७७ प्रतिशत उपासको के द्वारा दिये गये बहुमत के आधार पर मन्दिर में हरिजनों के प्रवेश को स्वीकृति दे दी गयी और इस प्रकार १ जनवरी १९३४ से केरल के श्री गुरूवायूर मन्दिर में किये गये निश्चय दिवस की सफलता के रूप में हरिजनों के प्रवेश को सैद्वांतिक स्वीकृति मिल गयी। गुरूवायूर मन्दिर जिसमें आज भी गैर हिन्दुओं का प्रवेश वर्जित है तथापि कई धर्मों को मानने वाले भगवान भगवान गुरूवायूरप्पन के परम भक्त हैं। महात्मा गांधी की प्रेरणा से जनवरी माह के प्रथम दिवस को निश्चय दिवस के रूप में मनाया गया और किये गये निश्चय को प्राप्त किया गया। । १९३४ की गर्मियों में, उनकी जान लेने के लिए उन पर तीन असफल प्रयास किए गए थे। जब कांग्रेस पार्टी के चुनाव लड़ने के लिए चुना और संघीय योजना के अंतर्गत सत्ता स्वीकार की तब गांधी जी ने पार्टी की सदस्यता से इस्तीफा देने का निर्णय ले लिया। वह पार्टी के इस कदम से असहमत नहीं थे किंतु महसूस करते थे कि यदि वे इस्तीफा देते हैं तब भारतीयों के साथ उसकी लोकप्रियता पार्टी की सदस्यता को मजबूत करने में आसानी प्रदान करेगी जो अब तक कम्यूनिसटों, समाजवादियों, व्यापार संघों, छात्रों, धार्मिक नेताओं से लेकर व्यापार संघों और विभिन्न आवाजों के बीच विद्यमान थी। इससे इन सभी को अपनी अपनी बातों के सुन जाने का अवसर प्राप्त होगा। गांधी जी राज के लिए किसी पार्टी का नेतृत्व करते हुए प्रचार द्वारा कोई ऐसा लक्ष्‍य सिद्ध नहीं करना चाहते थे जिसे राज के साथ अस्थायी तौर पर राजनैतिक व्यवस्‍था के रूप में स्वीकार कर लिया जाए। गांधी जी नेहरू प्रेजीडेन्सी और कांग्रेस के लाहौर अधिवेशन के साथ ही १९३६ में भारत लौट आए। हालांकि गांधी की पूर्ण इच्छा थी कि वे आजादी प्राप्त करने पर अपना संपूर्ण ध्‍यान केन्द्रित करें न कि भारत के भविष्य के बारे में अटकलों पर। उसने कांग्रेस को समाजवाद को अपने उद्देश्‍य के रूप में अपनाने से नहीं रोका। १९३८ में पार्टी अध्यक्ष पद के लिए चुने गए सुभाष बोस के साथ गांधी जी के मतभेद थे। बोस के साथ मतभेदों में गांधी के मुख्य बिंदु बोस की लोकतंत्र में प्रतिबद्धता की कमी तथा अहिंसा में विश्वास की कमी थी। बोस ने गांधी जी की आलोचना के बावजूद भी दूसरी बार जीत हासिल की किंतु कांग्रेस को उस समय छोड़ दिया जब सभी भारतीय नेताओं ने गांधी जी द्वारा लागू किए गए सभी सिद्धातों का परित्याग कर दिया गया। === द्वितीय विश्व युद्ध और भारत छोड़ो आन्दोलन === द्वितीय विश्व युद्ध १९३९ में जब छिड़ने नाजी जर्मनी आक्रमण पोलैंड.आरम्भ में गांधी जी ने अंग्रेजों के प्रयासों को अहिंसात्मक नैतिक सहयोग देने का पक्ष लिया किंतु दूसरे कांग्रेस के नेताओं ने युद्ध में जनता के प्रतिनिधियों के परामर्श लिए बिना इसमें एकतरफा शामिल किए जाने का विरोध किया। कांग्रेस के सभी चयनित सदस्यों ने सामूहिक तौर पर अपने पद से इस्तीफा दे दिया। लंबी चर्चा के बाद, गांधी ने घोषणा की कि जब स्वयं भारत को आजादी से इंकार किया गया हो तब लोकतांत्रिक आजादी के लिए बाहर से लड़ने पर भारत किसी भी युद्ध के लिए पार्टी नहीं बनेगी। जैसे जैसे युद्ध बढता गया गांधी जी ने आजादी के लिए अपनी मांग को अंग्रेजों को भारत छोड़ो आन्दोलन नामक विधेयक देकर तीव्र कर दिया। यह गांधी तथा कांग्रेस पार्टी का सर्वाधिक स्पष्ट विद्रोह था जो भारत देश से अंग्रेजों को खदेड़ने पर लक्षित था। गांधी जी के दूसरे नम्बर पर बैठे जवाहरलाल नेहरू की पार्टी के कुछ सदस्यों तथा कुछ अन्य राजनैतिक भारतीय दलों ने आलोचना की जो अंग्रेजों के पक्ष तथा विपक्ष दोनों में ही विश्‍वास रखते थे। कुछ का मानना था कि अपने जीवन काल में अथवा मौत के संघर्ष में अंग्रेजों का विरोध करना एक नश्वर कार्य है जबकि कुछ मानते थे कि गांधी जी पर्याप्त कोशिश नहीं कर रहे हैं। भारत छोड़ो इस संघर्ष का सर्वाधिक शक्तिशाली आंदोलन बन गया जिसमें व्यापक हिंसा और गिरफ्तारी हुई। पुलिस की गोलियों से हजारों की संख्‍या में स्वतंत्रता सेनानी या तो मारे गए या घायल हो गए और हजारों गिरफ्तार कर लिए गए। गांधी और उनके समर्थकों ने स्पष्ट कर दिया कि वह युद्ध के प्रयासों का समर्थन तब तक नहीं देंगे तब तक भारत को तत्‍काल आजादी न दे दी जाए। उन्होंने स्पष्ट किया कि इस बार भी यह आन्दोलन बन्द नहीं होगा यदि हिंसा के व्यक्तिगत कृत्यों को मूर्त रूप दिया जाता है। उन्होंने कहा कि उनके चारों ओर अराजकता का आदेश असली अराजकता से भी बुरा है। उन्होंने सभी कांग्रेसियों और भारतीयों को अहिंसा के साथ करो या मरो के द्वारा अन्तिम स्वतन्त्रता के लिए अनुशासन बनाए रखने को कहा। गांधी जी और कांग्रेस कार्यकारणी समिति के सभी सदस्यों को अंग्रेजों द्वारा मुबंई में ९ अगस्त १९४२ को गिरफ्तार कर लिया गया। गांधी जी को पुणे के आंगा खां महल में दो साल तक बंदी बनाकर रखा गया। यही वह समय था जब गांधी जी को उनके निजी जीवन में दो गहरे आघात लगे। उनका ५० साल पुराना सचिव महादेव देसाई ६ दिन बाद ही दिल का दौरा पड़ने से मर गए और गांधी जी के १८ महीने जेल में रहने के बाद २२ फरवरी १९४४ को उनकी पत्नी कस्तूरबा गांधी का देहांत हो गया। इसके छ: सप्ताह बाद गांधी जी को भी मलेरिया का भयंकर शिकार होना पड़ा। उनके खराब स्वास्थ्‍य और जरूरी उपचार के कारण ६ मई १९४४ को युद्ध की समाप्ति से पूर्व ही उन्हें रिहा कर दिया गया। राज उन्हें जेल में दम तोड़ते हुए नहीं देखना चाहते थे जिससे देश का क्रोध बढ़ जाए। हालांकि भारत छोड़ो आंदोलन को अपने उद्देश्य में आशिंक सफलता ही मिली लेकिन आंदोलन के निष्‍ठुर दमन ने १९४३ के अंत तक भारत को संगठित कर दिया। युद्ध के अंत में, ब्रिटिश ने स्पष्ट संकेत दे दिया था कि संत्ता का हस्तांतरण कर उसे भारतीयों के हाथ में सोंप दिया जाएगा। इस समय गांधी जी ने आंदोलन को बंद कर दिया जिससे कांग्रेसी नेताओं सहित लगभग १००,००० राजनैतिक बंदियों को रिहा कर दिया गया। === स्वतंत्रता और भारत का विभाजन === गांधी जी ने १९४६ में कांग्रेस को ब्रिटिश केबीनेट मिशन के प्रस्ताव को ठुकराने का परामर्श दिया क्योकि उसे मुस्लिम बाहुलता वाले प्रांतों के लिए प्रस्तावित समूहीकरण के प्रति उनका गहन संदेह होना था इसलिए गांधी जी ने प्रकरण को एक विभाजन के पूर्वाभ्यास के रूप में देखा। हालांकि कुछ समय से गांधी जी के साथ कांग्रेस द्वारा मतभेदों वाली घटना में से यह भी एक घटना बनी चूंकि नेहरू और पटेल जानते थे कि यदि कांग्रेस इस योजना का अनुमोदन नहीं करती है तब सरकार का नियंत्रण मुस्लिम लीग के पास चला जाएगा। १९४८ के बीच लगभग ५००० से भी अधिक लोगों को हिंसा के दौरान मौत के घाट उतार दिया गया। गांधी जी किसी भी ऐसी योजना के खिलाफ थे जो भारत को दो अलग अलग देशों में विभाजित कर दे। भारत में रहने वाले बहुत से हिंदुओं और सिक्खों एवं मुस्लिमों का भारी बहुमत देश के बंटवारे के पक्ष में था। इसके अतिरिक्त मुहम्मद अली जिन्ना, मुस्लिम लीग के नेता ने, पश्चिम पंजाब, सिंध, उत्तर पश्चिम सीमांत प्रांत और पूर्वी बंगाल में व्यापक सहयोग का परिचय दिया। व्यापक स्तर पर फैलने वाले हिंदु मुस्लिम लड़ाई को रोकने के लिए ही कांग्रेस नेताओं ने बंटवारे की इस योजना को अपनी मंजूरी दे दी थी। कांगेस नेता जानते थे कि गांधी जी बंटवारे का विरोध करेंगे और उसकी सहमति के बिना कांग्रेस के लिए आगे बझना बसंभव था चुकि पाटर्ठी में गांधी जी का सहयोग और संपूर्ण भारत में उनकी स्थिति मजबूत थी। गांधी जी के करीबी सहयोगियों ने बंटवारे को एक सर्वोत्तम उपाय के रूप में स्वीकार किया और सरदार पटेल ने गांधी जी को समझाने का प्रयास किया कि नागरिक अशांति वाले युद्ध को रोकने का यही एक उपाय है। मज़बूर गांधी ने अपनी अनुमति दे दी। उन्होंने उत्तर भारत के साथ-साथ बंगाल में भी मुस्लिम और हिंदु समुदाय के नेताओं के साथ गर्म रवैये को शांत करने के लिए गहन विचार विमर्श किया। १९४७ के भारत-पाकिस्तान युद्ध के बावजूद उन्हें उस समय परेशान किया गया जब सरकार ने पाकिस्तान को विभाजन परिषद द्वारा बनाए गए समझौते के अनुसार ५५ करोड़ रू0 न देने का निर्णय लियाथा। सरदार पटेल जैसे नेताओं को डर था कि पाकिस्तान इस धन का उपयोग भारत के खिलाफ़ जंग छेड़ने में कर सकता है। जब यह मांग उठने लगी कि सभी मुस्लिमों को पाकिस्तान भेजा जाए और मुस्लिमों और हिंदु नेताओं ने इस पर असंतोष व्य‍क्त किया और एक दूसरे के साथ समझौता करने से मना करने से गांधी जी को गहरा सदमा पहुंचा। उन्होंने दिल्ली में अपना पहला आमरण अनशन आरंभ किया जिसमें साम्प्रदायिक हिंसा को सभी के लिए तत्काल समाप्त करने और पाकिस्तान को 55 करोड़ रू0 का भुगतान करने के लिए कहा गया था। गांधी जी को डर था कि पाकिस्तान में अस्थिरता और असुरक्षा से भारत के प्रति उनका गुस्सा और बढ़ जाएगा तथा सीमा पर हिंसा फैल जाएगी। उन्हें आगे भी डर था कि हिंदु और मुस्लिम अपनी शत्रुता को फिर से नया कर देंगे और उससे नागरिक युद्ध हो जाने की आशंका बन सकती है। जीवन भर गांधी जी का साथ देने वाले सहयोगियों के साथ भावुक बहस के बाद गांधी जी ने बात का मानने से इंकार कर दिया और सरकार को अपनी नीति पर अडिग रहना पड़ा तथा पाकिस्तान को भुगतान कर दिया। हिंदु मुस्लिम और सिक्ख समुदाय के नेताओं ने उन्हें विश्‍वास दिलाया कि वे हिंसा को भुला कर शांति लाएंगे। इन समुदायों में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और हिंदू महासभा शामिल थे। इस प्रकार गांधी जी ने संतरे का जूस पीकर अपना अनशन तोड़ दिया। == हत्या == मैनचेस्टर गार्जियन, १८ फरवरी, १९४८, की गलियों से ले जाते हुआ दिखाया गया था। ३० जनवरी, १९४८, गांधी की उस समय नाथूराम गोडसे द्वारा गोली मारकर हत्या कर दी गई जब वे नई दिल्ली के बिड़ला भवन Wikipedia

More definitions


भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के प्रमुख प्रणेता Wikidata

FAMILY NAME
HONORIFIC PREFIX
PERMANENT DUPLICATED ITEM
PLACE OF BIRTH
PRESENT IN WORK
SEX OR GENDER
    •         •     bn:00037240n     •     NOUN     •     Named Entity    •     Updated on 2021/04/14     •     Categories: Morti nel 1948, Avvocati indiani, Politici indiani, Sostenitori del vegetarianismo...

  Mahatma Gandhi · Mohandas Karamchand Gandhi · Gandhi · Mohandas Gandhi

Mohāndās Karamchand Gāndhī, comunemente noto con l'appellativo onorifico di Mahatma è stato un politico, filosofo e avvocato indiano. Wikipedia

More definitions


Politico, filosofo e avvocato indiano Wikidata

CAUSE OF DEATH
ETHNIC GROUP
FAMILY NAME
FIELD OF WORK
HONORIFIC PREFIX
LANGUAGES SPOKEN, WRITTEN OR SIGNED
MANNER OF DEATH
MEMBER OF POLITICAL PARTY
NATIVE LANGUAGE
NOTABLE WORK
PERMANENT DUPLICATED ITEM
PLACE OF BIRTH
PLACE OF BURIAL
PLACE OF DEATH
PRESENT IN WORK
RELIGION
SEX OR GENDER
WRITING LANGUAGE
    •         •     bn:00037240n     •     NOUN     •     Named Entity    •     Updated on 2021/04/14     •     Categories: 1869年生, 20世紀の哲学者, ガンディー主義者, 現代インドの哲学者...

  マハトマ・ガンディー · ガンジー · Mohandas Karamchand Gandhi · मोहनदास करमचन्द गांधी · મોહનદાસ કરમચંદ ગાંધી

モーハンダース・カラムチャンド・ガーンディー(グジャラーティー文字表記:મોહનદાસ કરમચંદ ગાંધી、デーヴァナーガリー文字表記: मोहनदास करमचन्द गांधी、ラテン文字表記:Mohandas Karamchand Gandhi、1869年10月2日 - 1948年1月30日)は、インドのグジャラート出身の弁護士、宗教家、政治指導者である。 Wikipedia

More definitions


インドの政治指導者 Wikidata

CAUSE OF DEATH
CONFLICT
FAMILY NAME
FIELD OF WORK
HONORIFIC PREFIX
LANGUAGES SPOKEN, WRITTEN OR SIGNED
LIFESTYLE
MANNER OF DEATH
MEMBER OF POLITICAL PARTY
MOVEMENT
NATIVE LANGUAGE
PERMANENT DUPLICATED ITEM
PLACE OF BIRTH
PLACE OF BURIAL
SEX OR GENDER
WRITING LANGUAGE
    •         •     bn:00037240n     •     NOUN     •     Named Entity    •     Updated on 2021/04/14     •     Categories: Лауреаты Международной премии Мира, Родившиеся 2 октября, Адвокаты по алфавиту, Умершие в 1948 году...

  Махатма Ганди · Mahatma Gandhi · Ганди, Махатма · Ганди, Мохандас · Ганди, Мохандас Карамчанд

Моханда́с Карамча́нд Га́нди Wikipedia

More definitions


Один из руководителей и идеологов движения за независимость Индии от Великобритании Wikidata

FAMILY NAME
HONORIFIC PREFIX
LANGUAGES SPOKEN, WRITTEN OR SIGNED
MANNER OF DEATH
NATIVE LANGUAGE
PERMANENT DUPLICATED ITEM
PLACE OF BIRTH
SEX OR GENDER
WRITING LANGUAGE
    •         •     bn:00037240n     •     NOUN     •     Named Entity    •     Updated on 2021/04/14     •     Categories: Mahatma Gandhi, Filósofos anarquistas, Zurdos, Vegetarianos...

  Mahatma Gandhi · Mohandas Karamchand Gandhi · Gandhi · Gandi · Ghandi

Mohandas Karamchand Gandhi fue el dirigente más destacado del Movimiento de independencia de la India contra el Raj británico, para lo que practicó la desobediencia civil no violenta, además de pacifista, político, pensador y abogado hinduista indio. Wikipedia

More definitions


Líder pacifista hindú. Wikipedia (disambiguation)
Líder político e insurgente indio Wikidata
Principal líder del nacionalismo hindú en la India gobernada por los británicos. OmegaWiki

ETHNIC GROUP
FAMILY NAME
FIELD OF WORK
HONORIFIC PREFIX
LANGUAGES SPOKEN, WRITTEN OR SIGNED
MANNER OF DEATH
MEMBER OF POLITICAL PARTY
NATIVE LANGUAGE
NOTABLE WORK
PERMANENT DUPLICATED ITEM
PLACE OF BIRTH
PLACE OF BURIAL
PLACE OF DEATH
PRESENT IN WORK
RELIGION
SEX OR GENDER
WRITING LANGUAGE

 

Translations

مهاتما غاندي, غاندي, مهندس كرمشاند غاندي, المهاتما غاندي, ghandi, mahatma gandhi, mohandas karamchand gandhi, الماهاتما غاندي, ماهاتما غاندي, مهندس غاندي, كرمشاند غاندي
圣雄甘地, 莫罕达斯・卡拉姆昌德・甘地, gandhi, mahatma gandhi, mohandas karamchand gandhi, 印度国父, 玛哈特玛・甘地, 甘地, 莫罕达斯・卡拉姆昌德・甘地, 莫罕达斯・甘地, 颜智, 莫汉达斯karamchand甘地
mahatma gandhi, gandhi, mohandas karamchand gandhi, bapu, bapuji, gandhiji, gandhji, m. k. gandhi, m k gandhi, mahatma mohandas karamchand gandhi, mohandas gandhi, mohandas k. gandhi, mohandas k gandhi, bapu gandhi, barrister mohandas karamchand gandhi, biography of mahatma gandhi, father of india, gahndi, gandhi's work in south africa, gandhi, mohandas k., gandhi, mohandas karamchand, gandhi poppadom, gandhian movement, gandhy, gandi's work in south africa, ghandhi, ghandi, gnadhi, little brown saint, m. k. ghandi, m.k. gandhi, m.k.gandhi, mahatama gandhi, mahatama ghandi, mahatma gandhi bibliography, mahatma ghadhi, mahatma ghandhi, mahatma ghandi, mahatma karamchand gandhi, mahatman gandhi, mahondas gandhi, mahotma gandhi, mahâtmâ gandhi, matahama gandhi, mk gandhi, mohandas "mahatma" gandhi, mohandas ghandi, mohandas karamchand gandhi in south africa, mohandus ghandi, mohatma ghandi, putlibai, saint of sabarmati, the little brown saint, મોહનદાસ કરમચંદ ગાંધી
mohandas karamchand gandhi, mahatma gandhi, gandhi, gandhî, karamchand, le mahâtmâ gandhî, mahatma mohandas gandhi, mahâtmâ gandhî, mohandas gandhi, mohandas k. gandhi, gandhiste
mohandas karamchand gandhi, mahatma gandhi, gandhi, mohandas gandhi, karamchand gandhi, mahatma, mohandas k. gandhi, mohandās karamcand gāndhī, putali bai, मोहनदास करमचंद गांधी, મોહનદાસ કરમચંદ ગાંધી
μαχάτμα γκάντι, μοχάντας γκάντι, mohandas karamchand γκάντι
מוהנדס קרמצ'נד גנדי, מהאטמה גנדי, גאנדי, מ.ק, מהטמה גנדי, מאהטמה גנדהי, מהאטמה גאנדי, מהטמה גאנדי, מהטמה גנדהי, מוהנדס גאנדי, מוהנדס קרמצ'נד גאנדי
महात्मा गांधी, मोहनदास करमचंद गांधी, गांधी, गांधीजी, बापू, भारत के राष्ट्रपिता, मोहनदास गांधीmahatma gandhi, गाँधीजी, गांधी जी, गान्धी, महात्मा गाँधी, महात्मा गान्धी, मोहनदास करमचंद गाँधी, मोहनदास करमचन्द गाँधी, मोहनदास करमचन्द गांधी
mahatma gandhi, mohandas karamchand gandhi, gandhi, mohandas gandhi
マハトマ・ガンディー, ガンジー, ガンディ, ガンディー, ガーンディー, マハトマ・ガンジー, マハトマ・ガンディ, マハトマ・ガーンディー, マハートマー・ガーンディー, モハンダス・カラムチャンド・ガンジー, モハンダス・カラムチャンド・ガンディー, モハンダス・カラムチャンド・ガーンディー, モハンダス・ガンジー, モハンダス・ガンディー, モハンダス・ガーンディー, mohandas karamchand gandhi, मोहनदास करमचन्द गांधी, મોહનદાસ કરમચંદ ગાંધી, インド独立の父, モハンダス・K・ガンジー, モーハンダース・K・ガンジー, モーハンダース・カラムチャンド・ガンディー, モーハンダース・カラムチャンド・ガーンディー, マハトマ·ガンジー, マハトマガンジー, モハンダスカラムチャンド·ガンディー
махатма ганди, ганди, махатма, ганди, мохандас, ганди, мохандас карамчанд, мохандас «махатма» ганди, мохандас ганди, мохандас карамчанд «махатма» ганди, мохандас карамчанд ганди, mahatma gandhi, ганди м., ганди м. к., ганди махатма, ганди мохандас, ганди мохандас карамчанд, ганди
mahatma gandhi, mohandas karamchand gandhi, gandhi, gandi, ghandi, m. gandhi, m gandhi, mahad magandi, mahatma ghandi, majatma gandhi, mohan das gandhi, mohandas gandhi, mohandas k. gandhi, mohandas k gandhi, mohandas karamchand gandhī, mohandās karamchand gandhi, mohandās karamchand gandhī, Mohatma Gandhi, mojandas gandhi, mojandas karamchand gandhi, māhatma gandhi

Sources

WordNet du Français

gandhiste

Japanese WordNet senses

ガンジー, マハトマガンジー

Arabic WordNet (AWN v2) senses

غاندي, مهاتما غاندي, مهندس كرمشاند غاندي

Multilingual Central Repository senses

Gandhi, Mahatma Gandhi, Mohandas Karamchand Gandhi

WOLF senses

Gandhi, Mohandas Karamchand Gandhi

Wikipedia redirections

Translations from SemCor sentences or monosemous words

المهاتما غاندي, كرمشاند غاندي
圣雄甘地, 莫汉达斯karamchand甘地
mahatma gandhi, mohandas karamchand gandhi
mahatma gandhi, mohandas karamchand gandhi
mohandas karamchand γκάντι, μαχάτμα γκάντι
מהטמה גנדי, מוהנדס קרמצ'נד גנדי
महात्मा गांधी, मोहनदास करमचंद गांधी
mahatma gandhi, mohandas karamchand gandhi
マハトマ·ガンジー, モハンダスカラムチャンド·ガンディー
ганди, махатма ганди
mahatma gandhi, mohandas karamchand gandhi
5 sources | 16 senses
5 sources | 15 senses
7 sources | 75 senses
7 sources | 18 senses
5 sources | 17 senses
4 sources | 5 senses
5 sources | 13 senses
6 sources | 26 senses
5 sources | 8 senses
6 sources | 38 senses
5 sources | 22 senses
7 sources | 30 senses

Categories

Wikipedia categories

People of British India , Biography with signature , Presidents of the Indian National Congress , Prisoners and detainees of British India , 1948 deaths , State funerals in India , Anti-poverty advocates , South African lawyers , 19th-century Indian philosophers , Alumni of the University of London , Writers from Gujarat , Mahatma Gandhi , Indian autobiographers , Pages with missing ISBNs , Indian humanitarians , Indian emigrants to South Africa , Tolstoyans , All Wikipedia articles written in Indian English , Indian barristers , Indian pacifists , Hindu pacifists , Colony of Natal people , Indian memoirists , Indian Hindus , People murdered in Delhi , Indian political philosophers , Indian people of World War II , 20th-century Indian male writers , Neo-Vedanta , 20th-century Indian writers , Assassinated Indian politicians , British Empire in World War II , Swadeshi activists , Indian revolutionaries , Nonviolence advocates , Natal Indian Congress politicians , South African Indian Congress politicians , Indian murder victims , Indian anti-war activists , Indian expatriates in the United Kingdom , Indian libertarians , Indian male philosophers , Indian nationalists , Contemporary Indian philosophers , Recipients of the Kaisar-i-Hind Medal , 20th-century Indian lawyers , 19th-century male writers , Members of the Inner Temple , Gujarati people , Indian activist journalists , 19th-century Indian lawyers , Indian expatriates in South Africa , Deaths by firearm in India , 19th-century Indian writers , Anti-imperialism , Founders of Indian schools and colleges , Writers about activism and social change , 20th-century Indian philosophers , People from Porbandar , Hunger strikers , Animal rights activists , Mahatma Gandhi family , Anti–World War II activists , Alumni of University College London , 1869 births , People of the Second Boer War , Anti-consumerists , Translators of the Bhagavad Gita , Indian independence activists , Simple living advocates , Indian civil rights activists , Indian tax resisters , Gujarati-language writers , Articles with short description , Ascetics

Compounds

BabelNet

Barrister Mohandas Karamchand Gandhi, Gandhi Ashram, Mahatma Gandhi Road, Mahatma Gandhi Memorial, assassination of Mohandas Karamchand Gandhi, assassination of Mahatma Gandhi, Mahatma Gandhi, Mahatma Mohandas Karamchand Gandhi, Statue of Gandhi, assassination of Gandhi
Mahâtmâ Gandhî, mahatma Mohandas Gandhi

Other forms

BabelNet

لغاندي
Gandhian, Gandhi's, Mahathma Gandhi, Mahatma, Mahatma Gandhi's, Mohandas Gandhi's, non-violence, and truth
gandhienne, mahatma Gandhi, rôle-titre
Gandhis, Mahatma Gandhis, M. K. Gandhi, Mohandas Gandhis
Γκάντι
גנדי
गान्धी जी, गांधी, गांधीजी, गांधी जी, गाँधी, गाँधीजी, गाँधी जी, बापू, महात्मा गाँधी
gandhiana, gandhiane, gandhiano
ガンディー, ガーンディー
Ганди, Махатме Ганди, Махатмой Ганди, Махатму Ганди, Махатмы Ганди, М. Ганди, Мохандаса Карамчанда Ганди, Мохандасом Ганди
gandhiano

External Links

DBpedia