Preferred language:

This is the default search language used by BabelNet
Select the main languages you wish to use in BabelNet:
Selected languages will be available in the dropdown menus and in BabelNet entries
Select all

A

B

C

D

E

F

G

H

I

J

K

L

M

N

O

P

Q

R

S

T

U

V

W

X

Y

Z

all preferred languages
    •     bn:00079771n     •     NOUN     •     Named Entity    •     Updated on 2020/04/01     •     Categories: Webarchive template wayback links, أجرام فلكية معروفة منذ العصور القديمة, الزهرة, صفحات بها وصلات إنترويكي...

  الزهرة · Vénus · زهرة (كوكب) · كوكب الزهرة

الزُّهَرَة هو ثاني كواكب المجموعة الشمسية من حيث قربه إلى الشمس. Wikipedia

More definitions


كوكب صخري، يتبع لمجموعتنا الشمسية Wikidata

    •     bn:00079771n     •     NOUN     •     Named Entity    •     Updated on 2020/04/01     •     Categories: 太阳系, 太阳系行星, 类地行星, 行星科学...

  金星 · 太白星 · 启明星 · 塞斯 · 大泽星

金星(英语拉丁语:Venus,天文符号:♀),在太阳系的八大行星中,是从太阳向外的第二颗行星,轨道公转周期为224.7地球日,它没有天然的卫星。 Wikipedia

More definitions


距离太阳第二近的行星 Wikidata

    •     bn:00079771n     •     NOUN     •     Named Entity    •     Updated on 2020/04/01     •     Categories: Astronomical objects known since antiquity, authors list, Pages including recorded pronunciations, Terrestrial planets...

  Venus   · Sol 2 · Sol 3 · Sol c · Sol II

The second nearest planet to the sun; it is peculiar in that its rotation is slow and retrograde (in the opposite sense of the Earth and all other planets except Uranus); it is visible from Earth as an early `morning star' or an `evening star' WordNet

More definitions


Venus is the second planet from the Sun. Wikipedia
The second planet from the Sun Wikipedia (disambiguation)
Telluric planet, second closest from the Sun Wikidata
The second planet (counted from the center) of our solar system. OmegaWiki
A taxonomic genus within the family Veneridae – the true venus clams. Wiktionary
An alternate name for the planet Venus. Wiktionary
Venus is the second planet from the Sun, orbiting it every 224.7 Earth days. Wikiquote

Before it was known that they were the same object the evening star was called Venus and the morning star was called Lucifer WordNet

    •     bn:00079771n     •     NOUN     •     Named Entity    •     Updated on 2020/04/01     •     Categories: Article avec une section vide ou incomplète, Article de qualité en croate, Article utilisant une Infobox, Objet céleste nommé d'après un personnage de la mythologie romaine...

  Vénus (planète) · · Planète ardente · Étoile du berger · Étoile du matin

Vénus est une des quatre planètes telluriques du Système solaire. Wikipedia

More definitions


Seconde planète du Système solaire Wikidata
Deuxième planète de notre système solaire (en partant du centre). OmegaWiki

    •     bn:00079771n     •     NOUN     •     Named Entity    •     Updated on 2020/04/01     •     Categories: Kategorie, Planet des Sonnensystems, Venus (Planet), Veraltet nach Oktober 2021

  Venus (Planet) · Neith (Mond) · Planet Venus · Sol II · Windstrukturen auf dem Planeten Venus

Die Venus ist mit einer durchschnittlichen Sonnenentfernung von 108 Millionen Kilometern der zweitinnerste und mit einem Durchmesser von ca. 12.100 Kilometern der drittkleinste Planet des Sonnensystems. Wikipedia

More definitions


Zweiter Planet unseres Sonnensystems Wikidata
Der zweite Planet (vom Zentrum aus gezählt) unseres Sonnensystems. OmegaWiki

    •     bn:00079771n     •     NOUN     •     Named Entity    •     Updated on 2020/04/01     •     Categories: Αφροδίτη (πλανήτης), Βραχώδεις πλανήτες, Σελίδες με πηγές CS1 στα Αγγλικά (en)

  Αφροδίτη (πλανήτης) · Αποσπερίτης · Αυγερινός

Η Αφροδίτη είναι ο δεύτερος σε απόσταση από τον Ήλιο πλανήτης του Ηλιακού Συστήματος. Wikipedia

    •     bn:00079771n     •     NOUN     •     Named Entity    •     Updated on 2020/04/01     •     Categories: כוכבי לכת במערכת השמש, נוגה

  נוגה · וֶנוּס · כּוֹכַב-הַשַּׁחַר · כּוֹכַב-הָעֶרֶב · נֹגַהּ

נוגה הוא כוכב הלכת השני במרחקו מהשמש. Wikipedia

More definitions


כוכב לכת השני בקרבתו לשמש Wikidata
כוכב הלכת השני (כשנספר מהמרכז) במערכת השמש. OmegaWiki

    •     bn:00079771n     •     NOUN     •     Named Entity    •     Updated on 2020/04/01     •     Categories: authors list, खगोलशास्त्र, ग्रह, शुक्र ग्रह...

  शुक्र · वीनस · शुक्र ग्रह

शुक्र, सूर्य से दूसरा ग्रह है और प्रत्येक 224.7 पृथ्वी दिनों मे सूर्य परिक्रमा करता है। ग्रह का नामकरण प्रेम और सौंदर्य की रोमन देवी पर हुआ है। चंद्रमा के बाद यह रात्रि आकाश में सबसे चमकीली प्राकृतिक वस्तु है। इसका आभासी परिमाण -4.6 के स्तर तक पहुँच जाता है और यह छाया डालने के लिए पर्याप्त उज्जवलता है। चूँकि शुक्र एक अवर ग्रह है इसलिए पृथ्वी से देखने पर यह कभी सूर्य से दूर नज़र नहीं आता है: इसका प्रसरकोण 47.8 डिग्री के अधिकतम तक पहुँचता है। शुक्र सूर्योदय से पहले या सूर्यास्त के बाद केवल थोड़ी देर के लए ही अपनी अधिकतम चमक पर पहुँचता है। यहीं कारण है जिसके लिए यह प्राचीन संस्कृतियों के द्वारा सुबह का तारा या शाम का तारा के रूप में संदर्भित किया गया है। शुक्र एक स्थलीय ग्रह के रूप में वर्गीकृत है और समान आकार, गुरुत्वाकर्षण और संरचना के कारण कभी कभी उसे पृथ्वी का "बहन ग्रह" कहा गया है। शुक्र आकार और दूरी दोनों मे पृथ्वी के निकटतम है। हालांकि अन्य मामलों में यह पृथ्वी से एकदम अलग नज़र आता है। शुक्र सल्फ्यूरिक एसिड युक्त अत्यधिक परावर्तक बादलों की एक अपारदर्शी परत से ढँका हुआ है। जिसने इसकी सतह को दृश्य प्रकाश में अंतरिक्ष से निहारने से बचा रखा है। इसका वायुमंडल चार स्थलीय ग्रहों मे सघनतम है और अधिकाँशतः कार्बन डाईऑक्साइड से बना है। ग्रह की सतह पर वायुमंडलीय दबाव पृथ्वी की तुलना मे 92 गुना है। 735 K के औसत सतही तापमान के साथ शुक्र सौर मंडल मे अब तक का सबसे तप्त ग्रह है। कार्बन को चट्टानों और सतही भूआकृतियों में वापस जकड़ने के लिए यहाँ कोई कार्बन चक्र मौजूद नही है और ना ही ज़ीवद्रव्य को इसमे अवशोषित करने के लिए कोई कार्बनिक जीवन यहाँ नज़र आता है। शुक्र पर अतीत में महासागर हो सकते हैलेकिन अनवरत ग्रीनहाउस प्रभाव के कारण बढ़ते तापमान के साथ वह वाष्पीकृत होते गये होंगे | पानी की अधिकांश संभावना प्रकाश-वियोजित रही होने की, व, ग्रहीय चुंबकीय क्षेत्र के अभाव की वजह से, मुक्त हाइड्रोजन सौर वायु द्वारा ग्रहों के बीच अंतरिक्ष में बहा दी गई है।शुक्र की भूमी बिखरे शिलाखंडों का एक सूखा मरुद्यान है और समय-समय पर ज्वालामुखीकरण द्वारा तरोताजा की हुई है। == भौतिक लक्षण == शुक्र चार सौर स्थलीय ग्रहों में से एक है। जिसका अर्थ है कि पृथ्वी की ही तरह यह एक चट्टानी पिंड है। आकार व द्रव्यमान में यह पृथ्वी के समान है और अक्सर पृथ्वी की "बहन" या "जुड़वा " के रूप में वर्णित किया गया है। शुक्र का व्यास 12,092 किमी और द्रव्यमान पृथ्वी का 81.5% है। अपने घने कार्बन डाइऑक्साइड युक्त वातावरण के कारण शुक्र की सतही परिस्थितियाँ पृथ्वी पर की तुलना मे बिल्कुल भिन्न है। शुक्र के वायुमंडलीय द्रव्यमान का 96.5% कार्बन डाइऑक्साइड और शेष 3.5% का अधिकांश नाइट्रोजन रहा है। === भूगोल === 20 वीं सदी में ग्रहीय विज्ञान द्वारा कुछ सतही रहस्यों को उजागर करने तक शुक्र की सतह अटकलों का विषय थी | अंततः इसका 1990-91 में मैगलन परियोजना द्वारा विस्तार में मापन किया गया | यहाँ की भूमि विस्तृत ज्वालामुखीकरण के प्रमाण पेश करती है और वातावरण में सल्फर वहाँ हाल ही में हुए कुछ उदगार का संकेत हो सकती है।शुक्र की सतह का करीबन 80% हिस्सा चिकने और ज्वालामुखीय मैदानों से आच्छादित है। जिनमें से 70% सलवटी चोटीदार मैदानों से व 10% चिकनी या लोदार मैदानों से बना है।दो उच्चभूमि " महाद्वीप " इसके सतही क्षेत्र के शेष को संवारता है जिसमे से एक ग्रह के उत्तरी गोलार्ध और एक अन्य भूमध्यरेखा के बस दक्षिण में स्थित है। उत्तरी महाद्वीप को बेबीलोन के प्यार की देवी इश्तार के नाम पर इश्तार टेरा कहा गया है और आकार तकरीबन ऑस्ट्रेलिया जितना है। शुक्र का सर्वोच्च पर्वत मैक्सवेल मोंटेस इश्तार टेरा पर स्थित है। इसका शिखर शुक्र की औसत सतही उच्चतांश से 11 किमी ऊपर है। दक्षिणी महाद्वीप एफ्रोडाईट टेरा ग्रीक की प्यार की देवी के नाम पर है और लगभग दक्षिण अमेरिका के आकार का यह महाद्वीप दोनों उच्चभूम क्षेत्रों में बड़ा है। दरारों और भ्रंशो के संजाल ने इस क्षेत्र के अधिकाँश भाग को घेरा हुआ है।शुक्र पर दृश्यमान किसी भी ज्वालामुख-कुण्ड के साथ लावा प्रवाह के प्रमाण का अभाव एक पहेली बना हुआ है। ग्रह पर कुछ प्रहार क्रेटर है जो सतह के अपेक्षाकृत युवा होने का प्रदर्शन करते है और लगभग 30-60 करोड़ साल पुराने है। आमतौर पर स्थलीय ग्रहों पर पाए जाने वाले प्रहार क्रेटरों, पहाड़ों और घाटियों के अलावा, शुक्र पर अनेकों अद्वितीय भौगोलिक संरचनाएं है। इन संरचनाओं में, चपटे शिखर वाली ज्वालामुखी संरचनाएं "फेरा" कहलाती है, यह कुछ मालपुआ जैसी दिखती है और आकार में 20-50 किमी विस्तार में होती है। 100-1,000 मीटर ऊँची दरार युक्त सितारा-सदृश्य चक्रीय प्रणाली को "नोवा" कहा जाता है। चक्रीय और संकेंद्रित दरारों, दोनों के साथ मकड़ी के जाले से मिलती-जुलती संरचनाएं "अर्कनोइड" के रूप में जानी जाती है। "कोरोना" दरारों से सजे वृत्ताकार छल्ले है और कभी-कभी गड्ढों से घिरे होते है। इन संरचनाओं के मूल ज्वालामुखी में हैं।शुक्र की अधिकांश सतही आकृतियों को ऐतिहासिक और पौराणिक महिलाओं के नाम पर रखा गया हैं। लेकिन जेम्स क्लार्क मैक्सवेल पर नामित मैक्सवेल मोंटेस और उच्चभूमि क्षेत्रों अल्फा रीजियो, बीटा रीजियो और ओवडा रीजियो कुछ अपवाद है। पूर्व की इन तीन भूआकृतियों को अंतराष्ट्रीय खगोलीय संघ द्वारा अपनाई गई मौजूदा प्रणाली से पहले नामित किया गया है। अंतराष्ट्रीय खगोलीय संघ ग्रहीय नामकरण की देखरेख करता है।शुक्र पर भौतिक आकृतियों के देशांतरों को उनकी प्रधान मध्याह्न रेखा के सापेक्ष व्यक्त किया गया है। मूल प्रधान मध्याह्न रेखा अल्फा रीजियो के दक्षिण मे स्थित उज्ज्वल अंडाकार आकृति "एव" के केंद्र से होकर गुजरती है। वेनरा मिशन पूरा होने के बाद, प्रधान मध्याह्न रेखा को एरियाडन क्रेटर से होकर पारित करने के लिए नए सिरे से परिभाषित किया गया था | === भूतल भूविज्ञान === शुक्र की अधिकतर सतह ज्वालामुखी गतिविधि द्वारा निर्मित नजर आती है। शुक्र पर पृथ्वी की तरह अनेकानेक ज्वालामुखी है और इसके प्रत्येक 100 किमी के दायरे मे कुछ 167 के आसपास बड़े ज्वालामुखी है। पृथ्वी पर इस आकार की ज्वालामुखी जटिलता केवल हवाई के बड़े द्वीप पर है। यह इसलिए नहीं कि शुक्र ज्वालामुखी नज़रिए से पृथ्वी की तुलना में अधिक सक्रिय है, बल्कि इसकी पर्पटी पुरानी है। पृथ्वी की समुद्री पर्पटी विवर्तनिक प्लेटों की सीमाओं पर भूगर्भिय प्रक्रिया द्वारा निरंतर पुनर्नवीकृत कर दी जाती है और करीब १० करोड़ वर्ष औसत उम्र की है, जबकि शुक्र की सतह 30-60 करोड़ वर्ष पुरानी होने का अनुमान है।शुक्र पर अविरत ज्वालामुखीता के लिए अनेक प्रमाण बिन्दु मौजुद है। सोवियत वेनेरा कार्यक्रम के दौरान, वेनेरा 11 और वेनेरा 12 प्रोब ने बिजली के एक निरंतर प्रवाह का पता लगाया और वेनेरा 12 ने अपने अवतरण के बाद एक शक्तिशाली गर्जन की करताल दर्ज की | यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी के वीनस एक्सप्रेस ने उँचे वायुमंडल में प्रचुर मात्रा में बिजली दर्ज की | जबकि पृथ्वी पर बारिश गरज-तूफ़ान लाती है, वहीं शुक्र की सतह पर कोई वर्षा नहीं होती है । एक संभावना है एक ज्वालामुखी विस्फोट से उडी राख ने बिजली पैदा की थी | एक अन्य प्रमाण वायुमंडल में मौजुद सल्फर डाइऑक्साइड सांद्रता के माप से आता है, जिसे 1978 और 1986 के बीच एक 10 के कारक के साथ बुंदों से पाया गया था। इसका मतलब यह हो सकता है कि पहले बड़े पैमाने पर ज्वालामुखीय विस्फोट से स्तर बढ़ाया गया था। शुक्र पर समूचे हजार भर प्रहार क्रेटर सतह भर मे समान रूप से वितरित है। पृथ्वी और चंद्रमा जैसे अन्य क्रेटरयुक्त निकायों पर, क्रेटर गिरावट की अवस्थाओं की एक रेंज दिखाते है। चंद्रमा पर गिरावट का कारण उत्तरोत्तर ट्क्कर है, तो वहीं पृथ्वी पर यह हवा और बारिश के कटाव के कारण होती है। शुक्र पर लगभग 85% क्रेटर प्राचीन हालत में हैं। क्रेटरों की संख्या, अपनी सुसंरक्षित परिस्थिती के सानिध्य के साथ, करीब 30-60 करोड वर्ष पूर्व की एक वैश्विक पुनर्सतहीकरण घटना के अधीन इस ग्रह के गुजरने का संकेत करती है, ज्वालामुखीकरण मे पतन का अनुसरण करती है। जहां एक ओर पृथ्वी की पर्पटी निरंतर प्रक्रियारत है, वहीं शुक्र को इस तरह की प्रक्रिया के पोषण के लिए असमर्थ समझा गया है। बिना प्लेट विवर्तनिकी के बावजुद अपने मेंटल से गर्मी फैलाने के लिए शुक्र एक चक्रीय प्रक्रिया से होकर गुजरता है जिसमें मेंटल तापमान वृद्धि पर्पटी के कमजोर होने के लिए आवश्यक चरम स्तर तक पहुंचने तक जारी रहती है | फिर, लगभग 10 करोड वर्षों की अवधि में दबाव एक विशाल पैमाने पर होता है जो पर्पटी का पूरी तरह से पुनर्नवीकरण कर देता है।शुक्र क्रेटरों के परास व्यास में 3 किमी से लेकर 280 किमी तक है। आगंतुक निकायों पर घने वायुमंडल के प्रभाव के कारण 3 किमी से कम कोई क्रेटर नहीं है। एक निश्चित गतिज ऊर्जा से कम के साथ आने वाली वस्तुओं को वायुमंडल ने इतना धीमा किया हैं कि वें एक प्रहार क्रेटर नहीं बना पाते है। व्यास मे 50 किमी से कम के आने वाले प्रक्ष्येप खंड-खंड हो जाएंगे और सतह पर पहुंचने से पहले ही वायुमंडल में भस्म हो जाएंगे। === आंतरिक संरचना === भूकम्पीय डेटा या जड़त्वाघूर्ण की जानकारी के बगैर शुक्र की आंतरिक संरचना और भू-रसायन के बारे में थोड़ी ही प्रत्यक्ष जानकारी उपलब्ध है। शुक्र और पृथ्वी के बीच आकार और घनत्व में समानता बताती है, वें समान आंतरिक संरचना साझा करती है: एक कोर, एक मेंटल और एक क्रस्ट। पृथ्वी पर की ही तरह शुक्र का कोर कम से कम आंशिक रूप से तरल है क्योंकि इन दो ग्रहों के ठंडे होने की दर लगभग एक समान रही है। शुक्र का थोड़ा छोटा आकार बताता है, इसके गहरे आंतरिक भाग में दबाव पृथ्वी से काफी कम हैं। इन दो ग्रहों के बीच प्रमुख अंतर है, शुक्र पर प्लेट टेक्टोनिक्स के लिए प्रमाण का अभाव, संभवतः क्योंकि इसकी परत कम चिपचिपा बनाने के लिए बिना पानी के अपहरण के लिए बहुत मजबूत है। इसके परिणामस्वरूप ग्रह से गर्मी की कमी कम हो जाती है, इसे ठंडा करने से रोकती है और आंतरिक रूप से जेनरेट किए गए चुंबकीय क्षेत्र की कमी के लिए संभावित स्पष्टीकरण प्रदान किया जाता है। बावजुद, शुक्र प्रमुख पुनर्सतहीकरण घटनाओं में अपनी आंतरिक ऊष्मा बीच बीच में खो सकता हैं। === वातावरण और जलवायु === शुक्र का वायुमंडल अत्यंत घना है, जो मुख्य रूप से कार्बन डाइऑक्साइड और नाइट्रोजन की एक छोटी मात्रा से मिलकर बना है। वायुमंडलीय द्रव्यमान पृथ्वी पर के वायुमंडल की तुलना मे 93 गुना है, जबकि ग्रह के सतह पर का दबाव पृथ्वी पर के सतही दबाव की तुलना मे 92 गुना है- यह दबाव पृथ्वी के महासागरों की एक किलोमीटर करीब की गहराई पर पाये जाने वाले दबाव के बराबर है। सतह पर घनत्व 65 किलो/घनमीटर है | यहां का CO2-बहुल वायुमंडल, सल्फर डाइऑक्साइड के घने बादलों के साथ-साथ, सौर मंडल का सबसे शक्तिशाली ग्रीन हाउस प्रभाव उत्पन्न करता है और कम से कम 462 °C का सतही तापमान पैदा करता है। यह शुक्र की सतह को बुध की तुलना में ज्यादा तप्त बनाता है। बुध का न्यूनतम सतही तापमान −220 °C और अधिकतम सतही तापमान 420 °C है। शुक्र ग्रह सूर्य से दोगुनी के करीब दूरी पर होने के बावजुद बुध सौर विकिरण का केवल 25% प्राप्त करता है। प्रायः शुक्र की सतह नारकीय रूप में वर्णित है।यह तापमान नसबंदी प्राप्त करने के लिए उपयोग किए जाने वाले तापमान से भी अधिक है। अध्ययनों ने बताया है कि शुक्र का वातावरण हाल की तुलना में अरबों साल पहले पृथ्वी की तरह बहुत ज्यादा था और वहां सतह पर तरल पानी की पर्याप्त मात्रा रही हो सकती है। लेकिन, 60 करोड से लेकर कई अरब वर्षों तक की अवधि के बाद, मूल पानी के वाष्पीकरण के कारण एक दौडता-भागता ग्रीनहाउस प्रभाव हुआ, जिसने वहां के वातावरण में एक महत्वपूर्ण स्तर की ग्रीन हाउस गैसों को पैदा किया | हालांकि ग्रह पर सतही हालात किसी भी पृथ्वी-सदृश्य जीवन के लिए लम्बी मेहमान नवाजी योग्य नहीं है, जो इस घटना के पहले रहे हो सकते है। यह संभावना कि एक रहने योग्य दूसरी जगह निचले और मध्यम बादल परतों में मौजुद है, शुक्र अब भी दौड से बाहर नहीं हुआ है।तापीय जड़ता और निचले वायुमंडल में हवाओं द्वारा उष्मा के हस्तांतरण का मतलब है कि शुक्र की सतह के तापमान रात और दिन के पक्षों के बीच काफी भिन्न नहीं होते है, बावजुद इसके कि ग्रह का घूर्णन अत्यधिक धीमा है। सतह पर हवाएं धीमी हैं, प्रति घंटे कुछ ही किलोमीटर की दूरी चलती है, लेकिन शुक्र के सतह पर वातावरण के उच्च घनत्व की वजह से, वे अवरोधों के खिलाफ उल्लेखनीय मात्रा का बल डालती है और सतह भर में धूल और छोटे पत्थरों का परिवहन करती है। यह अकेला ही इससे होकर मानवीय चहल कदमी के लिए मुश्किल खड़ी करता होगा, अन्यथा गर्मी, दबाव और ऑक्सीजन की कमी कोई समस्या नहीं थी।सघन CO2 परत के ऊपर घने बादल हैं जो मुख्य रूप से सल्फर डाइऑक्साइड और सल्फ्यूरिक अम्ल की बूंदों से मिलकर बने है। ये बादल लगभग 90% सूर्य प्रकाश को परावर्तित व बिखेरते है जो कि वापस अंतरिक्ष में उन पर गिरता है और शुक्र की सतह के दृश्य प्रेक्षण को रोकते है। बादलों के स्थायी आवरण का अर्थ है कि भले ही शुक्र ग्रह पृथ्वी की तुलना में सूर्य से नजदीक है, पर शुक्र की सतह अच्छी तरह से तपी नहीं है। बादलों के शीर्ष पर की 300 किमी/घंटा की शक्तिशाली हवाएं हर चार से पांच पृथ्वी दिवसो में ग्रह का चक्कर लगाती है। शुक्र की हवाएं उसकी घूर्णन के 60 गुने तक गतिशील है, जबकि पृथ्वी की सबसे तेज हवाएं घूर्णन गति की केवल 10% से 20% हैं।शुक्र की सतह प्रभावी ढंग से समतापीय है, यह न सिर्फ दिन और रात के बीच बल्कि भूमध्य रेखा और ध्रुवों के मध्य भी एक स्थिर तापमान बनाए रखता है। ग्रह का अल्प अक्षीय झुकाव भी मौसमी तापमान विविधता को कम करता है। तापमान में उल्लेखनीय भिन्नता केवल ऊंचाई के साथ मिलती है। 1995 में, मैगेलन जांच ने उच्चतम पर्वत शिखर के शीर्ष पर एक अत्यधिक प्रतिबिंबित पदार्थ का चित्रण किया जो स्थलीय बर्फ के साथ एक मजबूत समानता थी। यह पदार्थ तर्कसंगत रूप से एक समान प्रक्रिया से बर्फ तक बना है, यद्यपि बहुत अधिक तापमान पर। सतह पर घुलनशील करने के लिए बहुत अस्थिर, यह गैस के रूप में उच्च ऊंचाई को ठंडा करने के लिए गुलाब, जहां यह वर्षा के रूप में गिर गया। इस पदार्थ की पहचान निश्चितता के साथ ज्ञात नहीं है, लेकिन अटकलें मौलिक टेल्यूरियम से सल्फाइड तक ले जाती हैं।शुक्र के बादल पृथ्वी पर के बादलों की ही तरह बिजली पैदा करने में सक्षम हैं। बिजली की मौजुदगी विवादित रही है जब से सोवियत वेनेरा प्रोब द्वारा प्रथम संदेहास्पद बौछार का पता लगाया गया था। 2006-07 में वीनस एक्सप्रेस ने स्पष्ट रूप से व्हिस्टलर मोड तरंगों का पता लगाया, जो बिजली का चिन्हक है। उनकी आंतरायिक उपस्थिति मौसम गतिविधि से जुड़े एक पैटर्न को इंगित करता है। बिजली की दर पृथ्वी पर की तुलना में कम से कम आधी है। 2007 में वीनस एक्सप्रेस प्रोब ने खोज की कि एक विशाल दोहरा वायुमंडलीय भंवर ग्रह के दक्षिणी ध्रुव पर मौजूद है।2011 में वीनस एक्सप्रेस प्रोब द्वारा एक अन्य खोज की गई और वह है, शुक्र के वातावरण की ऊंचाई में एक ओजोन परत मौजूद है।29 जनवरी 2013 को ईएसए के वैज्ञानिकों ने बताया कि शुक्र ग्रह का आयनमंडल बाहर की ओर बहता है, जो इस मायने में समान है "इसी तरह की परिस्थितियों में एक धूमकेतु से आयन पूंछ की बौछार होती देखी गई"।" === चुंबकीय क्षेत्र और कोर === 1967 में वेनेरा 4 ने शुक्र के चुंबकीय क्षेत्र को पृथ्वी की तुलना में बहुत कमजोर पाया। यह चुंबकीय क्षेत्र एक आंतरिक डाइनेमो, पृथ्वी के अंदरुनी कोर की तरह, की बजाय आयनमंडल और सौर वायु के बीच एक अंतःक्रिया द्वारा प्रेरित है। शुक्र का छोटा सा प्रेरित चुंबकीय क्षेत्र वायुमंडल को ब्रह्मांडीय विकिरण के खिलाफ नगण्य सुरक्षा प्रदान करता है। यह विकिरण बादल दर बादल बिजली निर्वहन का परिणाम हो सकता है।आकार में पृथ्वी के बराबर होने के बावजुद शुक्र पर एक आंतरिक चुंबकीय क्षेत्र की कमी होना आश्चर्य की बात थी | यह भी उम्मीद थी कि इसका कोर एक डाइनेमो रखता है। एक डाइनेमो को तीन चीजों की जरुरत होती है: एक सुचालक तरल, घूर्णन और संवहन। कोर को विद्युत प्रवाहकीय होना माना गया है, जबकि इसके घूर्णन को प्रायः बहुत ज्यादा धीमी गति का होना माना गया है, सिमुलेशन दिखाते है कि एक डाइनेमो निर्माण के लिए यह पर्याप्त है। इसका तात्पर्य है, डाइनेमो गुम है क्योंकि शुक्र के कोर में संवहन की कमी है। पृथ्वी पर, संवहन कोर के बाहरी परत मे पाया जाता है क्योंकि तली की तरल परत शीर्ष की तुलना में बहुत ज्यादा तप्त है। शुक्र पर, एक वैश्विक पुनर्सतहीकरण घटना ने प्लेट विवर्तनिकी को बंद कर दिया हो सकता है और यह भूपटल से होकर उष्मा प्रवाह के घटाव का कारण बना। इसने मेंटल तापमान को बढ़ने के लिए प्रेरित किया, जिससे कोर के बाहर उष्मा प्रवाह बढ़ गया। नतीजतन, एक चुंबकीय क्षेत्र चलाने के लिए कोई आंतरिक भूडाइनेमो उपलब्ध नहीं है। इसके बजाय, कोर से निकलने वाली तापीय ऊर्जा भूपटल को दोबारा गर्म करने के लिए बार-बार इस्तेमाल हुइ है।एक संभावना यह कि शुक्र का कोई ठोस भीतरी कोर नहीं है, या इसका कोर वर्तमान में ठंडा नहीं है, इसलिए कोर का पूरा तरल हिस्सा लगभग एक ही तापमान पर है। एक और संभावना कि इसका कोर पहले से ही पूरी तरह जम गया है। कोर की अवस्था गंधक के सान्द्रण पर अत्यधिक निर्भर है, जो फिलहाल अज्ञात है।शुक्र के इर्दगिर्द दुर्बल चुंबकीय आवरण का मतलब है सौर वायु ग्रह के बाह्य वायुमंडल के साथ सीधे संपर्क करती है। यहां, हाइड्रोजन व ऑक्सीजन के आयन पराबैंगनी विकिरण से निकले तटस्थ अणुओं के वियोजन द्वारा बनाये गये है। सौर वायु फिर ऊर्जा की आपूर्ति करती है जो इनमें से कुछ आयनों को ग्रह के चुंबकीय क्षेत्र से पलायन के लिए पर्याप्त वेग देती है। इस क्षरण प्रक्रिया का परिणाम निम्न-द्रव्यमान हाइड्रोजन, हीलियम और ऑक्सीजन आयनों की हानि के रूप मे होती है, जबकि उच्च-द्रव्यमान अणुओं, जैसे कि कार्बन डाइऑक्साइड, को उसी तरह से ज्यादा बनाये रखने के लिए होती है। सौर वायु द्वारा वायुमंडलीय क्षरण ग्रह के गठन के बाद के अरबों वर्षों के दरम्यान जल के खोने का शायद सबसे बड़ा कारण बना। इस क्षरण ने उपरि वायुमंडल में उच्च-द्रव्यमान ड्यूटेरियम से निम्न-द्रव्यमान हाइड्रोजन के अनुपात को निचले वायुमंडल में अनुपात का 150 गुना बढ़ा दिया है। == परिक्रमा एवं घूर्णन == शुक्र करीबन 0.72 एयू की एक औसत दूरी पर सूर्य की परिक्रमा करता है और हर 224.65 दिवस को एक चक्कर पूरा करता है। यद्यपि सभी ग्रहीय कक्षाएं दीर्घवृत्तीय हैं, शुक्र की कक्षा 0.01 से कम की एक विकेन्द्रता के साथ, वृत्ताकार के ज्यादा करीब है। जब शुक्र ग्रह, पृथ्वी और सूर्य के बीच स्थित होता है, यह स्थिति अवर संयोजन कहलाती है, जो उसकी पहुंच को पृथ्वी से निकटतम बनाती है, अन्य ग्रह 4.1 करोड की औसत दूरी पर है। शुक्र औसतन हर 584 दिनों में अवर संयोजन पर पहुँचता है। पृथ्वी की कक्षा की घटती विकेन्द्रता के कारण, यह न्यूनतम दूरी दसीयों हजारों वर्ष उपरांत सर्वाधिक हो जाएगी। सन् 1 से लेकर 5383 तक, 4 करोड किमी से कम की 526 पहुंच है, फिर लगभग 60,158 वर्षों तक कोई पहुंच नहीं है। सर्वाधिक विकेन्द्रता की अवधि के दौरान, शुक्र करीब से करीब 3.82 करोड किमी तक आ सकता है।सौरमंडल के सभी ग्रह सूर्य की परिक्रमा एक वामावर्त दिशा में करते है, जैसा कि सूर्य के उत्तरी ध्रुव के उपर से देखा गया। अधिकांश ग्रह अपने अक्ष पर भी एक वामावर्त दिशा में घूमते है, लेकिन शुक्र हर 243 पृथ्वी दिवसों में एक बार दक्षिणावर्त घूमता है, यह किसी भी ग्रह की सर्वाधिक धीमी घूर्णन अवधि है। इस प्रकार एक शुक्र नाक्षत्र दिवस एक शुक्र वर्ष से लंबे समय तक रहता है। शुक्र की भूमध्य रेखा 6.5 किमी/घंटा की गति से घुमती है, जबकि पृथ्वी की भूमध्य रेखा पर घूर्णन लगभग 1,670 किमी/घंटा है। शुक्र का घूर्णन 6.5 मिनट/शुक्र नाक्षत्र दिवस तक धीमा हो गया है, जब से मैगलन अंतरिक्ष यान ने 16 साल पहले उसका दौरा किया है। प्रतिगामी घूर्णन के कारण, शुक्र पर एक सौर दिवस की लंबाई इसके नाक्षत्र दिवस की तुलना में काफी कम है, जो कि 116.75 पृथ्वी दिवस है । शुक्र का एक वर्ष लगभग 1.92 शुक्र सौर दिवस लंबा है। शुक्र की धरती से एक प्रेक्षक के लिए, सूर्य पश्चिम में उदित और पूर्व में अस्त होगा।शुक्र ग्रह, विभिन्न घूर्णन अवधि और झुकाव के साथ एक सौर नीहारिका से गठित हुआ हो सकता है। सघन वायुमंडल पर ज्वारीय प्रभाव और ग्रहीय उद्विग्नता द्वारा प्रेरित अस्तव्यस्त घूर्णन बदलाव के कारण वह वहां से अपनी वर्तमान स्थिति तक पहुंचा है। यह बदलाव जो कि अरबों वर्षों की क्रियाविधि उपरांत घटित हुआ होगा। शुक्र की घूर्णन अवधि सम्भवतः एक संतुलन की अवस्था को दर्शाती है जो, सूर्य के गुरुत्वाकर्षण की ओर से ज्वारीय जकड़न जिसकी प्रवृत्ति घूर्णन को धीमा करने की होती है और घने शुक्र वायुमंडल के सौर तापन द्वारा बनाई गई एक वायुमंडलीय ज्वार, के मध्य बनती है। शुक्र की कक्षा और उसकी घूर्णन अवधि के बीच के 584-दिवसीय औसत अंतराल का एक रोचक पहलू यह है कि शुक्र की पृथ्वी से उत्तरोत्तर नजदीकी पहुंच करीब-करीब पांच शुक्र सौर दिवसो के ठीक बराबर है। तथापि, पृथ्वी के साथ एक घूर्णन-कक्षीय अनुनाद की परिकल्पना छूट गई है।शुक्र का कोई प्राकृतिक उपग्रह नहीं है, हालांकि क्षुद्रग्रह 2002 VE68 वर्तमान में इसके साथ एक अर्ध कक्षीय संबंध रखता है। इस अर्ध उपग्रह के अलावा, इसके दो अन्य अस्थायी सह कक्षीय 2001 CK32 और 2012 XE33 है। 17 वीं सदी में गियोवन्नी कैसिनी ने शुक्र की परिक्रमा कर रहे चंद्रमा की सूचना दी जो नेइथ से नामित किया गया था | अगले 200 वर्षों के उपरांत अनेकों द्रष्टव्यों की सूचना दी गई | परन्तु अधिकांश को आसपास के सितारों का होना निर्धारित किया गया था। कैलिफोर्निया प्रौद्योगिकी संस्थान में, एलेक्स एलमी व डेविड स्टीवेन्सन के पूर्व सौर प्रणाली पर 2006 के मॉडलों के अध्ययन बताते है कि शुक्र का हमारे जैसा कम से कम एक चांद था जिसे अरबो साल पहले एक बड़ी टकराव की घटना ने बनाया था। अध्ययन के मुताबिक करीब एक करोड़ साल बाद एक अन्य टक्कर ने ग्रह की घूर्णन दिशा उलट दी। इसने शुक्र के चंद्रमा के घुमाव या कक्षा को धीरे धीरे अंदर की ओर सिकुड़ने के लिए प्रेरित किया जब तक कि वह शुक्र के साथ टकराकर उसमें विलीन नहीं हो गया। यदि बाद की टक्करों ने चन्द्रमा बनाये है तो वें भी उसी तरह से खींच लिए गए। उपग्रहों के अभाव लिए एक वैकल्पिक व्याख्या शक्तिशाली सौर ज्वार का प्रभाव है जो भीतरी स्थलीय ग्रहों की परिक्रमा कर रहे बड़े उपग्रहों को अस्थिर कर सकते है। == पर्यवेक्षण == शुक्र किसी भी तारे की तुलना में हमेशा उज्जवल है। सर्वाधिक कांतिमान, सापेक्ष कांतिमान −4.9, अर्द्धचंद्र चरण के दौरान होती है जब यह पृथ्वी के निकट होता है। शुक्र करीब −3 परिमाण तक मंद पड़ जाता है जब यह सूर्य द्वारा छुपा लिया जाता है। यह ग्रह दोपहर के साफ आसमान मे काफी उज्जवल दिखाई देता है, और आसानी से देखा जा सकता है जब सूर्य क्षितिज पर नीचा हो। एक अवर ग्रह के रूप में, यह हमेशा सूर्य से लगभग 47° के भीतर होता है।सूर्य की परिक्रमा करते हुए शुक्र प्रत्येक 584 दिवसों पर पृथ्वी को पार कर जाता है। जैसा कि यह दिखाई देता है, यह सूर्यास्त के बाद "सांझ का तारा" से लेकर सूर्योदय से पहले "भोर का तारा" तक बदल जाता है। एक अन्य अवर ग्रह बुध का प्रसरकोण मात्र 28° के अधिकतम तक पहुँचता है और गोधूलि में प्रायः मुश्किल से पहचाना जाता है, जबकि शुक्र को अपनी अधिकतम कांति पर चुक जाना कठिन है। इसके अधिक से अधिक अधिकतम प्रसरकोण का मतलब है यह सूर्यास्त के एकदम बाद तक अंधेरे आसमान में नजर आता है। आकाश में एक चमकदार बिंदु सदृश्य वस्तु के रूप में शुक्र को एक "अज्ञात उड़न तस्तरी" मान लेने की सहज गलत बयानी हुई है। अमेरिकी राष्ट्रपति जिमी कार्टर ने 1969 में एक उड़न तस्तरी देखे जाने की सूचना दी, जिसके विश्लेषण ने बाद में ग्रह होने की संभावना का सुझाव दिया था | अनगिनत अन्य लोगों ने शुक्र को असाधारण मानने की भूल की है।जैसे ही शुक्र की अपनी कक्षा के इर्दगिर्द हलचल होती है, दूरबीन दृश्यावली में यह चंद्रमा की तरह कलाओं का प्रदर्शन करता है: शुक्र की कलाओं में, ग्रह एक छोटी सी "पूर्ण" छवि प्रस्तुत करता है जब यह सूर्य के विपरीत दिशा में होता है, जब यह सूर्य से अधिकतम कोण पर होता है एक बड़ी "चतुर्थांस कला" प्रदर्शित करता है, एवं रत्रि आकाश में अपनी अधिकतम चमक पर होता है, तथा जैसे ही यह पृथ्वी और सूर्य के मध्य समीपस्थ कहीं आसपास आता है दूरबीन दृश्यावली में एक बहुत बड़ा "पतला अर्द्धचंद्र" प्रस्तुत करता है। शुक्र जब पृथ्वी और सूर्य के बीचोबीच होता है, अपने सबसे बड़े आकार पर होता है और अपनी "नव कला" प्रस्तुत करता है। इसके वायुमंडल को ग्रह के चारों ओर के अपवर्तित प्रकाश के प्रभामंडल द्वारा एक दूरबीन में देखा जा सकता हैं। === शुक्र पारगमन === शुक्र की कक्षा पृथ्वी की कक्षा के सापेक्ष थोड़ी झुकी हुई है; इसलिए, जब यह ग्रह पृथ्वी और सूर्य के बीच से गुजरता है, आमतौर पर सूर्य के मुखाकृति को पार नहीं करता। शुक्र पारगमन करना तब पाया जाता है जब ग्रह का अवर संयोजन पृथ्वी के कक्षीय तल में उपस्थिति के साथ मेल खाता है। शुक्र के पारगमन 243 साल के चक्रों में होते हैं। पारगमन की वर्तमान पद्धति मे, पहले दो पारगमन आठ वर्षों के अंतराल में होते है, फिर करीब 105.5 वर्षीय या 121.5 वर्षीय लंबा विराम और फिर से वहीं आठ वर्षीय अंतराल के नए पारगमन जोड़ो का दौर शूरू होता है। इस स्वरुप को सबसे पहले 1639 में अंग्रेज खगोलविद् यिर्मयाह होरोक्स ने खोजा था।नवीनतम जोड़ा 8 जून,2004 और 5-6 जून 2012 को था। पारगमन का अनेकों ऑनलाइन आउटलेट्स से सीधे अथवा उचित उपकरण और परिस्थितियों के साथ स्थानीय रूप से देखा जाना हो सका।पारगमन की पूर्ववर्ती जोड़ी दिसंबर 1874 और दिसंबर 1882 में हुई; आगामी जोड़ी दिसंबर 2117 और दिसंबर 2125 में घटित होगी। ऐतिहासिक रूप से, शुक्र के पारगमन महत्वपूर्ण थे, क्योंकि उन्होने खगोलविदों को खगोलीय इकाई के आकार के सीधे निर्धारण करने की अनुमति दी है, साथ ही सौरमंडल के आकार की भी, जैसा कि 1639 में होरोक्स के द्वारा देखा गया कैप्टन कुक की ऑस्ट्रेलिया की पूर्वी तट की खोज तब संभव हो पाई जब वें शुक्र पारगमन के प्रेक्षण के लिए पीछा करते हुए जलयात्रा कर 1768 में ताहिती आ गए। === भस्मवर्ण प्रकाश === तथाकथित भस्मवर्ण प्रकाश लंबे समय से चला आ रहा शुक्र प्रेक्षणों का एक रहस्य है। भस्मवर्ण प्रकाश शुक्र के अंधकार पक्ष की एक सुक्ष्म रोशनी है और नजर आती है जब ग्रह अर्द्ध चंद्राकार चरण में होता है। इस प्रकाश को सर्वप्रथम देखने का दावा बहुत पहले 1643 में हुआ था, परंतु रोशनी के अस्तित्व की भरोसेमंद पुष्टि कभी नहीं हो पाई। पर्यवेक्षकों ने अनुमान लगाया है, यह शुक्र के वायुमंडल में बिजली की गतिविधि से निकला परिणाम हो सकता है, लेकिन यह भ्रामक हो सकता है। हो सकता है यह एक उज्ज्वल, अर्द्ध चंद्राकार आकार की वस्तु देखने के भ्रम का नतीजा हो। == अध्ययन == === पूर्व अध्ययन === शुक्र ग्रह को "सुबह के तारे" और "शाम के तारे" दोनों ही रूपों में प्राचीन सभ्यताओं ने जान लिया था। नाम से ही पूर्व समझ जाहिर होती है कि वें दो अलग-अलग वस्तुएं थी | अम्मीसाडुका की शुक्र पटलिका, दिनांकित 1581 ईपू, यूनानी समझ दिखाती है कि दोनों वस्तु एक ही थी। इस पटलिका में शुक्र को "आकाश की उज्ज्वल रानी" के रूप में निर्दिष्ट किया गया है और विस्तृत प्रेक्षणों के साथ इस दृष्टिकोण का समर्थन किया जा सका है। छठी शताब्दी ईसा पूर्व में पाइथागोरस के समय तक, यूनानियों की अवधारणा, फोस्फोरस और हेस्पेरस, के रूप में दो अलग-अलग सितारों की थी। रोमनों ने शुक्र के सुबह की पहलू को लूसिफ़ेर के रूप में और शाम के पहलू को वेस्पेर के रूप में नामित किया है। शुक्र के पारगमन के प्रथम दर्ज अवलोकन का संयोग 4 दिसम्बर 1639 को यिर्मयाह होरोक्स द्वारा, उनके मित्र विलियम क्रेबट्री के साथ-साथ, बना था। 17 वीं सदी की शुरुआत में जब इतालवी भौतिक विज्ञानी गैलीलियो गैलीली ने ग्रह का प्रथम अवलोकन किया, उन्होने उसे चंद्रमा की तरह कलाओं को दिखाया हुआ पाया, अर्धचंद्र से उन्नतोदर से लेकर पूर्णचंद्र तक और ठीक इसके उलट। जब यह सूर्य से सर्वाधिक दूर होता है अपना अर्धचंद्र रुप दिखाता है और जब सूर्य के सबसे नजदीक होता है यह अर्द्ध चंद्राकार या पूर्णचंद्र की तरह दिखता है। यह संभव हो सका केवल यदि शुक्र ने सूर्य की परिक्रमा की और यह टॉलेमी के भूकेन्द्रीय मॉडल, जिसमें सौरमंडल संकेंद्रित था और पृथ्वी केंद्र पर थी, के स्पष्ट खंडन करने के प्रथम अवलोकनों में से था। शुक्र के वायुमंडल की खोज 1761 में रूसी बहुश्रुत मिखाइल लोमोनोसोव द्वारा हुई थी। शुक्र के वायुमंडल का अवलोकन 1790 में जर्मन खगोलशास्त्री योहान श्रोटर द्वारा हुआ था। श्रॉटर ने पाया कि ग्रह जब एक पतला अर्द्धचंद्र था, कटोरी 180° से अधिक तक विस्तारित हुई। उन्होने सही अनुमान लगाया कि यह घने वातावरण में सूर्य प्रकाश के बिखरने की वजह से था। बाद में, जब ग्रह अवर संयोजन पर था, अमेरिकी खगोलशास्त्री चेस्टर स्मिथ लीमन ने इसके अंधकार तरफ वाले हिस्से के इर्दगिर्द एक पूर्ण छल्ले का निरिक्षण किया और इसने वायुमंडल के लिए प्रमाण प्रदान किये। The atmosphere complicated efforts to determine a rotation period for the planet, and observers such as Italian-born astronomer Giovanni Cassini and Schröter incorrectly estimated periods of about 24 hours from the motions of markings on the planet's apparent surface. Wikipedia

More definitions


सौरमंडल में सूर्य से दूसरा ग्रह Wikidata

    •     bn:00079771n     •     NOUN     •     Named Entity    •     Updated on 2020/04/01     •     Categories: Pagine con collegamenti non funzionanti, Pianeti terrestri, Venere, Voci con codice NDL

  Venere · Stella della sera

Donna di straordinaria bellezza ItalWordNet

More definitions


Venere è il secondo pianeta del Sistema solare in ordine di distanza dal Sole con un'orbita quasi circolare che lo porta a compiere una rivoluzione in 224,7 giorni terrestri. Wikipedia
Secondo pianeta del sistema solare Wikidata
Il secondo pianeta (contato dal centro) del nostro sistema solare. OmegaWiki

    •     bn:00079771n     •     NOUN     •     Named Entity    •     Updated on 2020/04/01     •     Categories: 古代以前に発見された天体, 地球型惑星, 天文学に関する記事, 太陽系の惑星...

  金星 · スーパーローテーション · 太白星 · 宵の明星 · 明けの明星

金星(きんせい、ラテン語: Venus 、英語: Venus )は、太陽系で太陽に近い方から2番目の惑星。 Wikipedia

More definitions


太陽系第二惑星 Wikidata
太陽系で2番目に内側を公転している惑星。(太陽系第2惑星) OmegaWiki

宵の明星はビーナスと呼ばれ、明けの明星はルシファーと呼ばれていたが同じものであることが以前知られていた Japanese WordNet

    •     bn:00079771n     •     NOUN     •     Named Entity    •     Updated on 2020/04/01     •     Categories: Венера, Неавторитетный источник с августа 2019, Небесные тела, посещённые спускаемыми аппаратами, Нет источников с августа 2019...

  Венера

Вене́ра — вторая по удалённости от Солнца планета Солнечной системы, наряду с Меркурием, Землёй и Марсом принадлежащая к семейству планет земной группы. Wikipedia

More definitions


Планета земного типа, вторая от Солнца в Солнечной системе Wikidata
Венера  — вторая планета Солнечной системы, самая яркая звезда утреннего и вечернего неба. Wikiquote

    •     bn:00079771n     •     NOUN     •     Named Entity    •     Updated on 2020/04/01     •     Categories: Artículos con datos por trasladar a Wikidata, Artículos demasiado complejos, Artículos destacados en la Wikipedia en croata, Venus...

  Venus (planeta) · Estrella de la tarde · Lucero Vespertino · Planeta Venus · Shukra (Venus)

Venus es el segundo planeta del sistema solar en orden de distancia desde el Sol, y el tercero en cuanto a tamaño, de menor a mayor. Wikipedia

More definitions


El segundo planeta más próximo al Sol. Wikipedia (disambiguation)
Segundo planeta del Sistema Solar Wikidata
Segundo planeta de nuestro sistema solar (a partir de su centro). OmegaWiki


 

Translations

الزهرة, vénus, زهرة, كوكب الزهرة
金星, 太白星, 启明星, 塞斯, 大泽星, 大相星, 大衰星, 天浩星, 太正星, 宫星, 序星, 晚星, 月纬星, 殷星, 终星, 营星, 观星, 长庚, 长庚星, 金 星
venus, sol 2, sol 3, sol c, Sol II, ♀, 2nd planet, aitorma, astronomy venus, cytherocentric orbit, history of venus, kleinchen, metal star, morning and evening star, planet venus, second planet, sol-2, structure of venus, studies of venus, sun c, the planet venus, venerian year, venis, venus the planet
vénus, ♀, Planète ardente, Étoile du berger, Étoile du matin, Géographie de la planète Vénus, l'étoile du berger, planète vénus, sol c, venus
venus, neith, planet venus, Sol II, windstrukturen auf dem planeten venus
αφροδίτη, αποσπερίτης, αυγερινός, αφροδίτης
נוגה, וֶנוּס, כּוֹכַב-הַשַּׁחַר, כּוֹכַב-הָעֶרֶב, נֹגַהּ, ונוס, נגה
शुक्र, वीनस, शुक्र ग्रह
venere, stella della sera
金星, スーパーローテーション, 太白星, 宵の明星, 明けの明星, 金 星
венера, венеры
venus, estrella de la tarde, lucero vespertino, planeta venus, shukra, shukrá, vespero, véspero

Sources

WordNet senses

ItalWordNet senses

Venere, Venere

WordNet du Français

Vénus

MultiWordNet senses

Venere

Chinese Open WordNet senses

太白星, 金星

Japanese WordNet senses

金星

Multilingual Central Repository senses

Venus

WOLF senses

Vénus

Hebrew senses

וֶנוּס, כּוֹכַב-הַשַּׁחַר, כּוֹכַב-הָעֶרֶב, נֹגַהּ

Wiktionary senses

Wikiquote page titles

Translations from SemCor sentences or monosemous words

الزهرة
金 星
vénus
venus
αφροδίτης
ונוס
वीनस
venere
金 星
венеры
venus
5 sources | 8 senses
6 sources | 24 senses
7 sources | 36 senses
7 sources | 16 senses
5 sources | 8 senses
5 sources | 6 senses
6 sources | 10 senses
5 sources | 7 senses
7 sources | 9 senses
6 sources | 10 senses
6 sources | 6 senses
6 sources | 12 senses

Categories

Wikipedia categories

Compounds

BabelNet

star of Venus, exploration of Venus, Star of Venus, Venus 5, Venus and the Sun, terraforming Venus, transits of Venus, orbit of Venus, Venus series, atmosphere of Venus, colonization of Venus, transit of Venus, Mars and Venus, phases of Venus, Venus transit, Venus 2000, life on Venus, manned Venus flyby
survol habité de Vénus, phases de Vénus, transit de Vénus, exploration de Vénus, atmosphère de Vénus
blonde Venus
parametri orbitali di Venere, colonizzazione di Venere, esplorazione di Venere, superficie di Venere, pianeta Venere, atmosfera di Venere, Venere e Marte, osservazione di Venere, transito di Venere
exploración de Venus, colonización de Venus, Venus y Marte, tránsito de Venus, atmósfera de Venus

Other forms

BabelNet

Evening Star, Evening star, evening star, Venus atmospheric entry, Aphrodite, Venerian, morning star, Morning Star, Morning star, planet Venus
planète Vénus, vénusienne
Morgenstern, Planeten Venus, Venusbahn, Abendstern, Morgensterns
πλανήτης Αφροδίτη, πλανήτη Αφροδίτη, Αφροδίτης
כוכב השחר
venusiano, pianeta Venere, venusiana
明星
Венерой, венерианскую, Венере, венерианский, Венеру, Венеры, планеты Венера, Утренней звезды
planeta Venus

External Links

DBpedia

YAGO