Preferred language:

This is the default search language used by BabelNet
Select the main languages you wish to use in BabelNet:
Selected languages will be available in the dropdown menus and in BabelNet entries
Select all

A

B

C

D

E

F

G

H

I

J

K

L

M

N

O

P

Q

R

S

T

U

V

W

X

Y

Z

all preferred languages
    •     bn:02753822n     •     NOUN     •     Named Entity    •     Updated on 2019/11/28     •     Categories: اختراعات هندية, أسماء الأعداد, أنظمة عد, ترقيم...

  نظام العد الهندي العربي · الأرقام الهندية · النظام العربي الرقمي

نظام العد الهندي العربي هو نظام عد عشري ذو خانات ويتمثل في الأرقام الهندية ويستخدمها العرب الآن. Wikipedia

    •     bn:02753822n     •     NOUN     •     Named Entity    •     Updated on 2019/11/28     •     Categories: 初等数学, 数字

  印度-阿拉伯数字系统 · 印度阿拉伯数字 · 印度-阿拉伯数字 · 印度数字系统

印度-阿拉伯数字系统,或称印度数字系统,是一系列的十进制进位制的记数系统,起源于9世纪的印度。 Wikipedia

    •     bn:02753822n     •     NOUN     •     Named Entity    •     Updated on 2019/11/28     •     Categories: Elementary mathematics, Indian inventions, Numerals, Numeral systems

  Hindu–Arabic numeral system · Arabic numeral system · Glyphs used with the Hindu-Arabic numeral system · Hindu numerals · Indian numeral system

The Hindu–Arabic numeral system or Indo-Arabic numeral system is a positional decimal numeral system, and is the most common system for the symbolic representation of numbers in the world. Wikipedia

More definitions


A positional decimal numeral system developed between the first and fifth centuries by Indian mathematicians, widely used in modern life Wikipedia (disambiguation)
Positional decimal numeral system Wikidata

    •     bn:02753822n     •     NOUN     •     Named Entity    •     Updated on 2019/11/28     •     Categories: Système de numération

  Système de numération indo-arabe · système de numération arabo-indien · Ecriture decimale positionnelle · Notation décimale positionnelle · Numération arabo-indienne

Le système de numération arabo-indien est un système de numération de base dix employant une notation positionnelle et dix chiffres, allant de zéro à neuf, dont le tracé est indépendant de la valeur représentée. Wikipedia

    •     bn:02753822n     •     NOUN     •     Named Entity    •     Updated on 2019/11/28     •     Categories: Indische Mathematik, Zahlschrift

  Arabische Zahlschrift · Indische Zahlschrift · Arabische Zahlen · Arabische Ziffer · Arabische Ziffern

Die arabischen Ziffern, auch indische oder indisch-arabische Ziffern genannt, sind die elementaren Zeichen einer Zahlschrift, in der Zahlen auf der Grundlage eines Dezimalsystems mit neun, aus der altindischen Brahmi-Schrift herzuleitenden, Zahlzeichen positionell dargestellt werden. Wikipedia

    •     bn:02753822n     •     NOUN     •     Named Entity    •     Updated on 2019/11/28

  ινδουιστικό-αραβική σύστημα αρίθμησης From automatic translation

 The Hindu–Arabic numeral system or Indo-Arabic numeral system is a positional decimal numeral system, and is the most common system for the symbolic representation of numbers in the world. Wikipedia

    •     bn:02753822n     •     NOUN     •     Named Entity    •     Updated on 2019/11/28

  הספרות הינדיות · מערכת ספרת הינדו-ערבית · ספרות הינדיות From automatic translation

 The Hindu–Arabic numeral system or Indo-Arabic numeral system is a positional decimal numeral system, and is the most common system for the symbolic representation of numbers in the world. Wikipedia

    •     bn:02753822n     •     NOUN     •     Named Entity    •     Updated on 2019/11/28     •     Categories: गणित, भारतीय गणित

  भारतीय अंक प्रणाली · हिन्दू-अरबी अंक प्रणाली · हिन्दू अंक प्रणाली

भारतीय अंक प्रणाली को पश्चिम के देशों में हिंदू-अरबी अंक प्रणाली के नाम से जाना जाता है क्योंकि यूरोपीय देशों को इस अंक प्रणाली का ज्ञान अरब देश से प्राप्त हुआ था। जबकि अरबों को यह ज्ञान भारत से मिला था।भारतीय अंक प्रणाली में शून्य को मिला कर कुल 10 अंक होते हैं। भारतीय अंक प्रणाली, संसार की सर्वाधिक प्रचलित अंक प्रणाली हैं। फ्रांस के प्रसिद्ध गणितज्ञ पियरे साइमन लाप्लास के अनुसार, "भारत ने संख्याओं के प्रदर्शन के लिये दस अंकों वाली एक अति निपुण प्रणाली दी है। महत्वपूर्ण बात तो यह है कि यदि इस प्रणाली के अन्य गुणों की उपेक्षा भी कर दी जाए, तो भी इसके सरलतम होने को कदापि अस्वीकार नहीं किया जा सकता। == देवनागरी अंक == नीचे भारतीय अंकों का देवनागरी एवं अन्तरराष्ट्रीय स्वरूप दिखाया गया है- == भारतीय अंक प्रणाली की विशेषताएँ == इसमें दस संकेतों का उपयोग होता है। केवल दस संकेतों से ही छोटी-बड़ी सभी संख्याएँ लिखी जा सकती हैं। बड़ी-बड़ी संख्याएं लिखने में भी कम स्थान घेरतीं हैं। भारतीय अंक प्रणाली स्थानीय मान पर आधारित दाशमिक प्रणाली है।इसमें 'शून्य' नामक एक अंक की परिकल्पना भी की गयी है जो अत्यन्त क्रांतिकारी कल्पना थी। शून्य किसी भी स्थान पर हो, उसका स्थानीय मान 'शून्य' ही होता है। किन्तु किसी अंक या अंक-समूह के दाहिनी ओर शून्य लगाने से उसके बायें के सभी अंकों का स्थानीय मान पहले का दस गुना हो जाता है। वस्तुतः शून्य के बिना कोई भी स्थानीय मान पद्धति काम नहीं कर सकती।भारतीय अंकों के प्रयोग से अधिकांश गणितीय संक्रियाएँ करना बहुत सुविधाजनक है। संस्कृत में संख्याओं के नाम भी दाशमिक प्रणाली का समर्थन करते हैं - द्वादश = द्वि दश = २ १० = १२ ; पंचविंशति = पंच विंशति = ५ २० = २५ == उद्गम == इतिहासकारों के अनुसार ईसा पूर्व चौथी शताब्दी में भारत में ब्राह्मी अंकों का प्रचलन था। पुणे एवं मुंबई के क्षेत्र की गुफाओं में मिले शिलालेखों में तथा उत्तर प्रदेश में मिले प्राचीनकाल के सिक्कों में ब्राह्मी अंक पाये गये हैं। ब्राह्मी अंकों में दशमलव प्रणाली तथा शून्य का प्रयोग नहीं होता था। == दशमलव प्रणाली == अप्रामाणिक दस्तावेज़ों के अनुसार भारत में शून्य, जो कि दशमलव प्रणाली का आधार है, का आविष्कार इस्वी सन् की प्रथम शताब्दी में हो चुका था। किन्तु भारत में शून्य के आविष्कार के प्रामाणिक दस्तावेज़ पाँचवी शताब्दी में ही मिले हैं। ग्वालियर में पाये गये शिलालेख, जो कि ईस्वी सन् 870 का है, में शून्य के संकेत पाए गए हैं। इस शिलालेख को सभी इतिहासकारों ने एक मत से मान्यता दी है। शून्य के आविष्कार हो जाने पर भारत में दस अंको वाली अंक प्रणाली का प्रचलन आरम्भ हो गया जो कि इस संसार में प्रचलित आधुनिक अंक प्रणालियों का आधार बनी। == भारतीय अंक प्रणाली का अरब द्वारा अभिग्रहण == ईस्वी सन् के सातवीं शताब्दी में अरब ने भारतीय अंक प्रणाली का अभिग्रहण कर लिया। अरब में भारतीय अंकों को गुबार अंक और भारतीय अंक प्रणाली को हिंदुसा अंक प्रणाली के नाम से जाना जाने लगा। हिंदुस्तान से इस अंक प्रणाली के प्राप्त होने के कारण ही वहाँ इसे 'हिंदुसा' नाम दिया गया। अरब के मुहम्मद इब्न मूसा अल-ख़्वारिज़्मी नामक विद्वान के कालक्रम विवरण के अनुसार, "कैलिफ-अल-मन्सूर के दरबार में भारत से एक विद्वान आया जो सिद्धांत शास्त्र तथा खगोल शास्त्र का प्रकांड पण्डित था। वह समीकरण के द्वारा गणना करना भी जानता था। उसे कैलिफ-अल-मन्सूर ने अरब में भारतीय गणित पद्धति की शिक्षा के लिए नियुक्त किया। ......" == इतिहास == यूरोप में बारहवीं शताब्दी तक रोमन अंकों का प्रयोग होता था। रोमन अंक प्रणाली में केवल सात अंक हैं, जो अक्षरों द्वारा व्यक्त किए जाते हैं। ये अक्षरांक हैं- I, V, X, L, C, D तथा M । इन्हीं अंको के जोड़ ने घटाने से कोई भी संख्या लिखी जाती है। उदाहरण के लिए अगर तीन लिखना है तो एक का चिन्ह तीन बार लिख दिया III। आठ लिखना है तो पांच के दायीं तरफ तीन एक-एक के चिन्ह लिखकर जोड़ दिए और VIII हो गया। यह प्रणाली इतनी कठिन और उलझी हुई है कि जब बारहवीं शताब्दी में यूरोप का भारतीय अंक प्रणाली से परिचय हुआ तो उसने उसे स्वीकार ही नहीं किया, अपितु एकदम अपना लिया। यूरोप में कुछ शताब्दियों बाद जो वैज्ञानिक-औद्योगिक क्रान्ति हुई, उसके मूल में भारतीय अंक गणना का ही योगदान है। भारत ने गणना हेतु नौ अंकों तथा शून्य का अविष्कार किया था। यही नहीं, अंकों के स्थानीय मान का भी आविष्कार भारत में ही हुआ। शून्य का कोई मान नहीं है किन्तु उसे अगर एक अंक के दाहिनी ओर लिख दिया जाए तो वह दस इंगित करेगा क्योंकि अब १ का स्थानीय मान दस हो गया। यदि दाहिनी ओर एक और शून्य बढ़ा दिया जाए, तो यह संख्या सौ हो जाएगी। इस तरह अंक के दाहिनी ओर लिखे जाने पर मूल्यहीन शून्य, दूसरे अंकों का मूल्य बढ़ा देता है। संक्षेप में, स्थान के अनुसार अंकों के मूल्य निर्धारण के सिद्धान्त को स्थानीय मान कहते हैं। इस प्रणाली से किसी भी संख्या को लिखना बहुत आसान है। जिस तीन सौ चवालीस को हम रोमन प्रणाली में CCC XL IV लिखते हैं, उसे भारतीय विधि से ३४४ लिख सकते हैं। इस माध्यम से बड़ी से बड़ी संख्या बिना किसी कठिनाई के संक्षेप में लिखी जा सकती है। भारतीय गणित ने दशमलव प्रणाली का भी आविष्कार किया। भारत में दशमलव अंकों का सर्वप्रथम प्रयोग आर्यभट्ट प्रथम द्वारा मिलता है। संभव है कि इसका आविष्कार इससे भी बहुत पहले हुआ हो। किन्त यूरोप में दशमलव अंक का सामान्य प्रचार सत्रहवीं शताब्दी में हुआ, जिसका ज्ञान निश्चित ही उसने भारत से प्राप्त किया था। ये भारतीय गणितीय सिद्धान्त यूरोप को अरब के माध्यम से प्राप्त हुए थे। अरबी भाषा में इन अंकों को हिन्दसा कहते हैं। हिन्दसा अर्थात् 'हिन्द से प्राप्त'। अरबी लिपि दाएं से बाएं लिखी जाती है, किन्तु अरबी में अंक बायें से दायें लिखे जाते हैं। यह भी इस बात का प्रमाण है कि अरबी अंकों की उत्पत्ति अरबी भाषा के साथ अरब देश में नहीं हुई, अपितु ये बाहर से आयात किए गए हैं। अरबों के माध्यम से जब यह भारतीय अंक यूरोप पहुँचे तो उन्ह लगा कि ये अंक मूल रूप से अरबों द्वारा ही आविष्कार किए गए हैं। अतएव आज भी यूरोप में एक से नौ एवं शून्य के भारतीय अंकों को ‘एरेबिक न्युमरल’ कहते हैं। इस्लाम के पैगम्बर हजरत मोहम्मद के पूर्व अरब देश में जिहालिया अर्थात् 'अज्ञान का युग' कहा जाता है। ज्ञान-विज्ञान में वहां कोई प्रगति नहीं हुई थी। पूरे कुरैश कबीले में, जिससे मोहम्मद साहब का संबंध था, केवल सत्रह लोग कुछ लिखना जानते थे। किन्त इस्लाम की स्थापना के साथ अरब साम्राज्य का विस्तार पिश्चम में स्पेन और उत्तरी अफ्रीका तथा पूर्व में भारत की सीमा तक हो गया। जो देश पराजित होकर अरब साम्राज्य में शामिल हुए, उनके आर्थिक प्रशासन के लिए अरबी गणना-प्रणाली, जो कि अत्यन्त प्रारंभिक स्तर की थी, अपर्याप्त सिद्ध हुई। अतएव विवश होकर अरबी शासकों को विजित जातियों के अंकों का प्रयोग करना पड़ा। खलीफा अल मंसूर के राज्यकाल के समय में सिन्ध से कुछ दूत बगदाद गए, जिनमें कुछ विद्वान भी थे। वे अपने साथ ब्रह्मगुप्त रचित ब्रह्मस्फुट सिद्धान्त एवं खण्डखाद्यक नामक ग्रंथ भी अन्य ग्रंथों के साथ बगदाद ले गए। इन विद्वानों की सहायता से अल-फजारी एवं याकूब खां तारिक ने इनका अरबी में अनुवाद किया, जिसका अरबी गणित पर विशेष प्रभाव पड़ा। अरब लोगों में भारतीय ज्ञान, विज्ञान और कला के प्रति जो उस समय सम्मान था, वह अल जहीज की पुस्तिका- फकिर असम-सूदन अल-ल बिनद में लिखा हैः जहां तक भारतीयों का संबंध है, वे नक्षत्र ज्ञान और गणित में पहले स्थान पर है। उनकी लिपि दुनिया की सभी भाषाओं की ध्वनियां लिख सकती है, इसी तरह उनके अंक हर प्रकार की संख्या... Wikipedia

    •     bn:02753822n     •     NOUN     •     Named Entity    •     Updated on 2019/11/28

  indo-arabo sistema numerale · numeri indù From automatic translation

 The Hindu–Arabic numeral system or Indo-Arabic numeral system is a positional decimal numeral system, and is the most common system for the symbolic representation of numbers in the world. Wikipedia

    •     bn:02753822n     •     NOUN     •     Named Entity    •     Updated on 2019/11/28

 No term available

 The Hindu–Arabic numeral system or Indo-Arabic numeral system is a positional decimal numeral system, and is the most common system for the symbolic representation of numbers in the world. Wikipedia

    •     bn:02753822n     •     NOUN     •     Named Entity    •     Updated on 2019/11/28

  индийская числовая система · индийские числительные · индоарабская числовая система

Позиционная десятичная числовая система Wikidata

    •     bn:02753822n     •     NOUN     •     Named Entity    •     Updated on 2019/11/28

  sistema de numeración hindu-árabe · sistema numérico hindu-árabe

 The Hindu–Arabic numeral system or Indo-Arabic numeral system is a positional decimal numeral system, and is the most common system for the symbolic representation of numbers in the world. Wikipedia


 

Translations

نظام العد الهندي العربي, الأرقام الهندية, النظام العربي الرقمي, نظام الأرقام الهندي العربي
印度-阿拉伯数字系统, 印度阿拉伯数字, 印度-阿拉伯数字, 印度数字系统, 印 度 阿 拉 伯 数 字 系 统
hindu–arabic numeral system, Arabic numeral system, Glyphs used with the Hindu-Arabic numeral system, Hindu numerals, Indian numeral system, Mathi, arabic-hindu numeral system, glyphs used with the arabic numeral system, hindu-arabic numbers, hindu-arabic numeral system, hindu-arabic numerals, hindu numeral, hindu numeral system, hindu numeration system, hindu–arabic numeral, indian-arabic numerals, indic numerals, indo-arabic numeral system, indo arabic numerals, List of glyphs used with the Hindu-Arabic numeral system, アラビア数字
système de numération indo-arabe, système de numération arabo-indien, ecriture decimale positionnelle, notation décimale positionnelle, numération arabo-indienne, numération décimale de position, numération indo-arabe, écriture décimale positionnelle, chiffres hindous
arabische zahlschrift, Indische Zahlschrift, arabische zahlen, arabische ziffer, arabische ziffern, indische zahlen, indische ziffer, indische ziffern, hindu-arabischen zahlensystem, indischen ziffern
ινδουιστικό-αραβική σύστημα αρίθμησης
הספרות הינדיות, מערכת ספרת הינדו-ערבית, ספרות הינדיות
भारतीय अंक प्रणाली, हिन्दू-अरबी अंक प्रणाली, हिन्दू अंक प्रणाली, हिंदू अंकों
indo-arabo sistema numerale, numeri indù
индийская числовая система, индийские числительные, индоарабская числовая система, индо-арабской системе счисления
sistema de numeración hindu-árabe, sistema numérico hindu-árabe, numerales hindúes, sistema de numeración hindú-arábigo, sistema de numeración hindú-árabe

Sources

Translations from Wikipedia sentences

الأرقام الهندية, نظام الأرقام الهندي العربي
印 度 阿 拉 伯 数 字 系 统
chiffres hindous, système de numération indo-arabe
hindu-arabischen zahlensystem, indischen ziffern
ινδουιστικό-αραβική σύστημα αρίθμησης
הספרות הינדיות, מערכת ספרת הינדו-ערבית, ספרות הינדיות
हिंदू अंकों
indo-arabo sistema numerale, numeri indù
индо-арабской системе счисления
numerales hindúes, sistema de numeración hindú-arábigo, sistema de numeración hindú-árabe
4 sources | 8 senses
4 sources | 11 senses
3 sources | 27 senses
4 sources | 11 senses
4 sources | 10 senses
1 source | 1 sense
1 source | 3 senses
4 sources | 7 senses
1 source | 2 senses
2 sources | 4 senses
2 sources | 5 senses

Compounds

BabelNet

Hindu-Arabic numeral system

Other forms

BabelNet

印度-阿拉伯数字
Indian numerals, Hindu–Arabic numbers
numération positionnelle décimale, système de numération décimal, numération de position
Arabischen Ziffern, arabischen Zahlen, indischen Zahlen, arabischen Ziffern, arabischen, arabische Ziffern, indischen Ziffern, arabischen Ziffer, indischen Zahlschrift