Preferred language:

This is the default search language used by BabelNet
Select the main languages you wish to use in BabelNet:
Selected languages will be available in the dropdown menus and in BabelNet entries
Select all

A

B

C

D

E

F

G

H

I

J

K

L

M

N

O

P

Q

R

S

T

U

V

W

X

Y

Z

all preferred languages
    •     bn:03546240n     •     NOUN     •     Concept    •     Updated on 2019/06/21     •     Categories: فلسفة, فلسفة اللغة, فلسفة حسب المجال

  فلسفة اللغة · Philosophy of language · فلسفه اللغه

اللغة تميز الإنسان عن الحيوان بحكم أنها بنت الفكر. Wikipedia

    •     bn:03546240n     •     NOUN     •     Concept    •     Updated on 2019/06/21     •     Categories: 语言哲学, 语言学

  语言哲学 · 语言学派

语言哲学是一门哲学的分支,对语言的用法、来源及本质作理性的研究。 Wikipedia

    •     bn:03546240n     •     NOUN     •     Concept    •     Updated on 2019/06/21     •     Categories: Philosophy of language, Philosophy of science by discipline

  Philosophy of language · Language philosophy · Philosopher of language · Philosophical semantics · Philosophy of linguistics

Philosophy of language, in the analytical tradition, explored logic, the nature of meaning, and accounts of the mind. Wikipedia

More definitions


Discipline of philosophy that deals with language and meaning Wikidata

    •     bn:03546240n     •     NOUN     •     Concept    •     Updated on 2019/06/21     •     Categories: Branche de la philosophie, Philosophie analytique, Philosophie du langage, Pragmatique...

  Philosophie du langage

La philosophie du langage s'intéresse particulièrement à la signification, à la référence ou au sens en général, à l'usage du langage, à son apprentissage et à ses processus de création, ainsi qu'à sa compréhension, à la communication en général, à l'interprétation et à la traduction. Wikipedia

More definitions


Discipline de la philosophie qui traite de la langue et le sens Wikidata

    •     bn:03546240n     •     NOUN     •     Concept    •     Updated on 2019/06/21     •     Categories: Philosophische Disziplin, Sprache, Sprachphilosophie

  Sprachphilosophie · Physei · Thesei

Die Sprachphilosophie ist die Disziplin der Philosophie, die sich mit Sprache und Bedeutung beschäftigt, vor allem mit dem Verhältnis von Sprache und Wirklichkeit und dem Verhältnis von Sprache und Bewusstsein. Wikipedia

More definitions


Disziplin der Philosophie, die sich mit Sprache und Bedeutung beschäftigt Wikidata

    •     bn:03546240n     •     NOUN     •     Concept    •     Updated on 2019/06/21     •     Categories: Γλωσσολογία, Φιλοσοφία της γλώσσας

  Φιλοσοφία της γλώσσας · Φιλοσοφία του Λόγου

Φιλοσοφία της γλώσσας ονομάζεται η λογική διερεύνηση της φύσης, των απαρχών και της χρήσης της γλώσσας. Wikipedia

    •     bn:03546240n     •     NOUN     •     Concept    •     Updated on 2019/06/21     •     Categories: פילוסופיה של הלשון

  פילוסופיה של הלשון · הפילוסופיה של הלשון · פילוסופיה של השפה

פילוסופיה של הלשון או פילוסופיה של השפה היא תחום בפילוסופיה החוקר את השפה על היבטיה השונים, כולל היחס בין מבנה לוגי לביטוי הלשוני, יכולתה של השפה להביע אמת, משמעותם של משפטים ומילים, אפשרות ותנאי התרגום הנאות, מקורם של פרדוקסים, היחס בין מובן לשימוש, החפיפה בין שפה ומחשבה ועוד. Wikipedia

    •     bn:03546240n     •     NOUN     •     Concept    •     Updated on 2019/06/21     •     Categories: दर्शन, भाषा दर्शन

  भाषा दर्शन · भाषाई दर्शन

भाषादर्शन का सम्बन्ध इन चार केन्द्रीय समस्याओं से है- अर्थ की प्रकृति, भाषा प्रयोग, भाषा संज्ञान, तथा भाषा और वास्तविकता के बीच सम्बन्ध। किन्तु कुछ दार्शनिक भाषादर्शन को अलग विषय के रूप में न लेकर, इसे तर्कशास्त्र का ही एक अंग मानते हैं। == भाषादर्शन की भारतीय परम्परा == भारत में भाषा के तत्त्वमीमांसीय व ज्ञानमीमांसीय पक्षों पर सुदूर प्राचीन काल से ही विचार आरम्भ हो गया था। व्याकरण की रचना के लिए अनेक पारिभाषिक शब्दों का आश्रय लेना पड़ा। नाम, आख्यात उपसर्ग, निपात, क्रिया, लिंग, वचन, विभक्ति, प्रत्यय इत्यादि शब्दों के माध्यम से भाषा के विभिन्न रूपों का विश्लेषण किया गया। गहरा चिन्तन, सूक्ष्म विचार और सत्य के अन्वेषण की पद्धति को दर्शन कहा जाता है। इस कारण भाषा के विश्लेषण को भी दर्शनशास्त्र का स्तर मिल गया। वैदिक साहित्य में ही इस स्तर को स्वर मिलना आरम्भ हो गया था। गोपथ ब्राह्मण का ऋषि प्रश्न करते हुए कहता है- ओंकार पृच्छामः को धातुः, किं प्रातिपदिकम्, किं नामाख्यातम्, किं लिंगम्, किं वचनम्, का विभक्तिः, कः प्रत्यय इति। ये प्रश्न भाषा की आन्तरिक मीमांसा को सम्बोधिति हैं। यदि इन प्रश्नों का उत्तर दे दिया जाए, तो पूरा व्याकरणदर्शन सामने आ जाता है। जब धातु, प्रातिपदिक, नाम, आख्यात आदि के प्रति जिज्ञासा थी तो इनका समाधान भी किया गया था और समाधान करने वाले आचार्यों की लम्बी परम्परा भी खड़ी हो गई थी। निरुक्तकार यास्क ने नाम, आख्यात आदि के विवरण प्रस्तुत करते हुए कतिपय पूर्वाचार्यों के मतों का उल्लेख किया है। इससे स्पष्ट हो जाता है कि इस देश में व्याकरण की दार्शनिक-प्रक्रिया ईसा से कई सौ वर्ष पूर्व विकास के एक ऊँचे स्तर को छू चुकी थी। उपसर्ग तथा नाम शब्दों के स्वरूप के सम्बन्ध में अपने से पूर्ववर्ती आचार्य गार्ग्य तथा शाकटायन के परस्पर विरोधी मतों का उल्लेख यास्क ने अपने निरुक्त में भी किया है। इसी निरुक्त में उद्धृत2 एक आचार्य औदुम्बरायण के अखण्डवाक्यविषयक व्याकरणदर्शन के प्रमुख एवं आधारभूत सिद्धान्त का उल्लेख भर्तृहरि ने वाक्यपदीय में, तथा भरतमिश्र ने स्फोटसिद्ध में किया है। युध्ष्ठिर मीमांसक औदुम्बरायण आचार्य का समय 3100 वर्ष विक्रमपूर्व अथवा उससे कुछ पूर्व मानते हैं। शब्दनित्यत्व के सिद्धान्त पर प्रतिष्ठित स्फोटवाद नामक सिद्धान्त का सम्बन्ध पाणिनि से पूर्ववर्ती आचार्य स्फोटायन से माना जाता है। स्फोटायन आचार्य का उल्लेख पाणिनि ने ‘अवघ् स्फोटायनस्य’ सूत्र पर किया है। हरदत्त ने स्पफोटायन शब्द की व्याख्या इस प्रकार की है- स्फोटोऽयनं पारायणं यस्य स्पफोटायनः स्पफोटप्रतिपादनपरो व्याकरणाचार्यः। ये त्वौकारं पठन्ति ते नडादिषु अश्वादिषु वा पाठं मन्यन्ते। युधिष्ठिर मीमांसक स्पफोटायन आचार्य का समय 3200 विक्रम पूर्व मानते हैं। किन्तु जैसे पाणिनि के पूर्व के व्याकरणशास्त्र की बहुत ही अल्प सामग्री आज उपलब्ध है वैसे ही पूर्वाचार्यों के व्याकरण-सम्बन्धी दार्शनिक विचार भी अल्प ही सुरक्षित रह पाए हैं। जैसे शब्दनिष्पत्तिव्यवस्थानरूप संस्कृतव्याकरण का सुव्यवस्थित रूप पाणिनि से आरम्भ होता है वैसे ही व्याकरणदर्शन का भी स्पष्ट रूप पाणिनि से ही आरम्भ होता है। यद्यपि पाणिनि ने अष्टाध्यायी की रचना शब्दानुशासन के निमित्त की थी किन्तु अपनी व्याकरणरचनापद्धति के कारण उन्हें अनेक परिभाषा-सूत्रों की रचना करनी पड़ी। अनेक संज्ञाशब्द बनाने पड़े और पारिभाषिक शब्दों के लक्षण देने पड़े। हम देखते हैं कि आचार्य के इसी अवान्तरप्रतिपादन में व्याकरणदर्शन की एक विस्तृत पृष्ठभूमि स्वयं तैयार हो गई। पाणिनि द्वारा प्रयुक्त विभाषा, पदविधि, आदेश, विप्रतिषेध, उपमान, लिंग, क्रियातिपत्ति, कालविभाग, वीप्सा, प्रत्ययलक्षण, भावलक्षण, शब्दार्थप्रकृति जैसे सैकड़ों शब्द इस बात के प्रतीक हैं कि वे उन दिनों के दार्शनिक वादों से पूर्णरूप से अवगत थे और स्वयं उच्चकोटि के दार्शनिक चिन्तक थे। उनके अनेक सूत्र अपने आप में एक दर्शन हैं। उदाहरण के रूप में हम निम्न सूत्रों पर दृष्टिपात कर सकते हैंः- स्वतन्त्राः कर्ता, तदशिष्यं संज्ञाप्रमाणत्वात्, अर्थवदधतुरप्रत्ययः प्रातिपदिकम्, कर्मणि च येन संस्पर्शात् कर्त्तुः शरीरसुखम् Wikipedia

    •     bn:03546240n     •     NOUN     •     Concept    •     Updated on 2019/06/21     •     Categories: Filosofia del linguaggio

  Filosofia del linguaggio

La filosofia del linguaggio si occupa del linguaggio umano e dei suoi sistemi di comunicazione. Wikipedia

    •     bn:03546240n     •     NOUN     •     Concept    •     Updated on 2019/06/21     •     Categories: 言語哲学, 言語学の分野

  言語哲学 · 言語の哲学 · 言語哲学者

言語哲学(げんごてつがく、英語:philosophy of language)とは、語義的に二つの意味に大別される。 Wikipedia

    •     bn:03546240n     •     NOUN     •     Concept    •     Updated on 2019/06/21     •     Categories: Философия языка

  Философия языка · Лингвистическая философия · Лингвофилософия

Филосо́фия языка́ — исследовательская область философии, выявляющая основополагающую роль языка и речи в познании и структурах сознания и знания. Wikipedia

    •     bn:03546240n     •     NOUN     •     Concept    •     Updated on 2019/06/21     •     Categories: Filosofía del lenguaje, Lenguaje

  Filosofía del lenguaje · Filosofia del Lenguaje

La filosofía del lenguaje es la rama de la filosofía que estudia el lenguaje en sus aspectos más generales y fundamentales, como la naturaleza del significado y de la referencia, la relación entre el lenguaje, el pensamiento y el mundo, el uso del lenguaje, la interpretación, la traducción y los límites del lenguaje. Wikipedia

More definitions


Rama de la filosofía Wikidata


 

Translations

فلسفة اللغة, Philosophy of language, فلسفه اللغه, فيلسوف اللغة
语言哲学, 语言学派
philosophy of language, language philosophy, philosopher of language, philosophical semantics, philosophy of linguistics, philosophy of reference, philosophyoflanguage, reference theory, reference theory of meaning, sprachphilosophie, theory of reference
philosophie du langage, philosophe du langage
sprachphilosophie, Physei, Thesei, philosophen der sprache, philosophie der sprache
φιλοσοφία της γλώσσας, Φιλοσοφία του Λόγου, φιλόσοφος της γλώσσας
פילוסופיה של הלשון, הפילוסופיה של הלשון, פילוסופיה של השפה, פילוסוף של שפה
भाषा दर्शन, भाषाई दर्शन, भाषा के दर्शन, भाषा के दार्शनिक
filosofia del linguaggio, filosofo del linguaggio
言語哲学, 言語の哲学, 言語哲学者, 言 語 の 哲 学 者
философия языка, Лингвистическая философия, Лингвофилософия, философ языка, философии языка
filosofía del lenguaje, Filosofia del Lenguaje, filósofo del lenguaje

Sources

Translations from Wikipedia sentences

فيلسوف اللغة
philosophe du langage, philosophie du langage
philosophen der sprache, philosophie der sprache
φιλοσοφία της γλώσσας, φιλόσοφος της γλώσσας
פילוסוף של שפה
भाषा के दर्शन, भाषा के दार्शनिक
filosofia del linguaggio, filosofo del linguaggio
言 語 の 哲 学 者
философ языка, философии языка
filosofía del lenguaje, filósofo del lenguaje
4 sources | 7 senses
3 sources | 5 senses
3 sources | 13 senses
4 sources | 5 senses
4 sources | 8 senses
4 sources | 6 senses
4 sources | 7 senses
4 sources | 5 senses
3 sources | 4 senses
4 sources | 6 senses
4 sources | 7 senses
4 sources | 8 senses

Compounds

BabelNet

Geschichte der Sprachphilosophie

Other forms

BabelNet

language, philosophers of language
langage, théorie du langage, philosophe
Sprachphilosoph, sprachphilosophisch, Philosophie der Sprache, sprachphilosophisches, Sprache, Sprachphilosophen, sprachphilosophische, sprachlogische, sprachphilosophischen
linguistico, linguaggio
言語哲学者
философией языка, Sprachphilosophie, лингвистической философии, философию языка

External Links